सचिव ने दिखाए कड़े तेवर, इन 4 महिला सुपरवाइजरों को नौकरी से निकाला

लापरवाही पर 1 को कारण बताओ नोटिस, समीक्षा बैठक में महिला एवं बाल विकास विभाग की सचिव ने दिए निर्देश

By: rampravesh vishwakarma

Published: 04 Jan 2018, 09:45 PM IST

अंबिकापुर. महिला एवं बाल विकास विभाग की सचिव डॉ. एम गीता ने गुरूवार को जिला पंचायत कार्यालय के सभाकक्ष में संभाग स्तरीय समीक्षा बैठक ली। इसमें सचिव ने अफसरों से कहा कि बच्चों एवं महिलाओं के प्रति संवेदनशील होकर उनकी बेहतरी के लिए शासकीय योजनाओं का शत-प्रतिशत क्रियान्वयन सुनिश्चित करें।

उन्होंने लंबे समय से अनुपस्थित 4 सुपरवाइजरों को बर्खास्त करने के निर्देश दिए। वहीं एक सुपरवाइजर को कार्य के प्रति लापरवाही करने पर नोटिस जारी करने को कहा।


समीक्षा बैठक में डॉ. एम.गीता ने कहा कि महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा घरेलू हिंसा को रोकने के लिए संरक्षण अधिकारी नियुक्त किया गया है जो पीडि़त महिलाओं को घरेलू हिंसा से संरक्षण प्रदान करने हेतु आवश्यक मार्गदर्शन देते हैं।

उन्होंने संरक्षण अधिकारियों को सक्रियता से कार्य करने हेतु उन्हें जिले में संचालित सखी केन्द्रों में कार्यालयीन समय पर उपस्थित रहने के निर्देश दिए। डॉ. गीता ने कहा कि आंगनबाड़ी केन्द्रों में कुपोषित बच्चों पर विशेष ध्यान रखते हुए पोषक आहार देकर सामान्य अवस्था में लाने का प्रयास करें।

उन्होंने कहा कि स्व सहायता समूहों द्वारा तैयार की जाने वाली रेडी-टू-ईट की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए निर्माण स्थलों का सतत् भ्रमण कर वस्तु स्थिति की जायजा लें तथा उन्हें निर्धारित खाद्यान्नों की उपयुक्त मात्रा के संबंध में जानकारी दें। उन्होंने कहा कि स्व सहायता समूहों द्वारा तैयारी की जाने वाली रेडी-टू-ईट की पूर्ति संबंधित सेक्टर में ही कराएं तथा किसी भी परिस्थिति में सेक्टर से बाहर की स्व सहायता समूहों से रेडी-टू-ईट की आपूर्ति न कराएं।

बैठक में कलक्टर किरण कौशल, सूरजपुर कलक्टर केसी देव सेनापति, बलरामपुर कलक्टर अवनीश कुमार शरण, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत अनुराग पाण्डेय, महिला एवं बाल विकास विभाग की अपर संचालक पदमिनी भोई, संयुक्त संचालक डीएस मरावी, क्रिस्टीना लाल, उप संचालक पार्वती सलाम, सहायक संचालक सुनील सोनी सहित अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।
वार्डों में महिला फेसिलेटर की होगी नियुक्ति
डॉ. एम गीता ने बताया कि महिलाओं को पुलिस सहायता प्रदान करने हेतु ग्राम पंचायतों के वार्डो में महिला पुलिस फेसिलेटर की नियुक्ति की जाएगी जो पुलिस के साथ समन्वय करेंगे। उन्होंने बताया कि संबंधित ग्राम पंचायत के विवाहित तथा बारहवीं पास महिला, महिला पुलिस फेसिलेटर हेतु आवेदन करने के पात्र होंगे।


इन पर हुई कार्रवाई
डॉ. एम गीता ने आंगनबाड़ी के निरीक्षण कार्य एवं योजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा करते हुए लम्बे समय से अनुपस्थित कोरिया जिले की सुपरवाइजर पायल तथा ईशा थवाइत, सूरजपुर जिले की दीपा बेक एवं लेखा पाण्डेय को बर्खास्त करने हेतु आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश दिए। वहीं दायित्वों में लापरवाही बरतने के कारण सरगुजा जिला अंतर्गत दरिमा क्षेत्र की सुपरवाइजर सावित्री सिंह को कारण बताओ सूचना जारी करने के निर्देश दिए।

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned