आरक्षक की नौकरी लगवाने के नाम पर युवक से 1 लाख 90 हजार की ठगी, कहा था- मेरी पुलिस ऑफिसरों से अच्छी जमती है

Swindle: आरक्षक की भर्ती प्रक्रिया रद्द होने पर ठगी का शिकार युवक ने मांगे रुपए तो जान से मारने की दी धमकी, एसपी से की गई मामले की शिकायत

By: rampravesh vishwakarma

Published: 07 Sep 2020, 10:33 PM IST

अंबिकापुर. वर्ष 2018 में छत्तीसगढ़ पुलिस आरक्षक की भर्ती प्रक्रिया निकाली गई थी। इस दौरान एक अभ्यर्थी को तीन युवकों द्वारा नौकरी लगवा देने की बात कह कर 1 लाख 90 हजार रुपए ठग लिए गए। इसके बाद उक्त भर्ती प्रक्रिया शासन द्वारा रद्द कर दी गई थी।

इसके बाद उसे रुपए नहीं लौटाए जा रहे थे। पीडि़त अभ्यर्थी ने इसकी शिकायत एसपी से की थी। एसपी के निर्देश के बाद जांच कर कोतवाली पुलिस द्वारा एक आरोपी के खिलाफ धारा 420 का अपराध दर्ज कर आरोपी (Swindle) की तलाश कर रही है।


मनीष टोप्पो पिता समरथ टोप्पो सीतापुर थाना क्षेत्र के ग्राम बरबहला का निवासी है। वर्ष २०१८ में छत्तीसगढ़ पुलिस आरक्षक की भर्ती प्रक्रिया निकाली गई थी। मनीष टोप्पो ने भर्ती के लिए आवेदन किया था। मनीष की पहचान अविनाश सोनकर व मुन्ना केरकेट्टा से है।

इन दोनों व्यक्ति ने मनीष की पहचान लुण्ड्रा थाना क्षेत्र के ग्राम झेराडीह निवासी शिवराम नायक से कराई। शिवराम ने खुद की पुलिस विभाग में बड़े अधिकारियों से पहचान होने की बात कह कर मनीष से कहा कि तुम्हारी नौकरी लगवा दूंगा। इसके लिए शिवराम ने मनीष से 4 लाख रुपए की मांग की थी।

मनीष नौकरी की लालच में आकर देने को तैयार हो गया। मनीष ने तीन किश्तों में शिवराम को 1 लाख 90 हजार रुपए दिए थे। शेष रुपए नौकरी लगने के बाद देने की बात हुई थी। इसके बाद मनीष नौकरी लगवाने के लिए कई बार संपर्क करता रहा पर वह टालमटोल करता रहा।


रद्द हो गई भर्ती प्रक्रिया
इसी बीच मनीष टोप्पो को पता चला कि उक्त भर्ती प्रक्रिया शासन द्वारा रद्द कर दी गई है। इसके बाद मनीष अपने रुपयों के लिए शिवराम से संपर्क करता रहा पर वह रुपए देने से इंकार कर रहा था।

उल्टा कई बार उसने जान से मारने की धमकी भी दी। 1 लाख 90 हजार रुपए ठगी की शिकायत मनीष ने एसपी सरगुजा से की थी। एसपी ने इस मामले की जांच के लिए कोतवाली पुलिस को दी थी। जांच के बाद कोतवाली पुलिस ने आरोपी शिवराम के खिलाफ धारा 420 के तहत अपराध दर्ज कर आरोपी की तलाश कर रही है।


इधर प्यून की नौकरी लगवाने के नाम पर ठगे 1.30 लाख
आसन राम धौरपुर थाना क्षेत्र के ग्राम किशुनपुर का निवासी है। इसकी पहचान शहर के घुटरापारा निवासी ओम प्रकाश गुप्ता से है। वर्ष 2018 में ओमप्रकाश गुप्ता ने आसन राम को उद्योग विभाग में प्यून की नौकरी लगवा देने का झांसा दिया था। इसके लिए ओमप्रकाश ने आसन राम से 1 लाख 30 हजार रुपए लिए थे।

इसके बाद न तो नौकरी लगी न रुपए वापस कर रहा था। परेशान होकर आसन राम ने इसकी शिकायत कलक्टर से की थी। कलक्टर ने इस मामले की जांच के लिए एसपी को भेजा था। कोतवाली पुलिस जांच के बाद आरोपी ओमप्रकाश गुप्ता के खिलाफ धारा 420 के तहत अपराध दर्ज कर तलाश कर रही है।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned