शेयर ट्रेडिंग में लाखों रुपए का मुनाफा दिखाकर युवती व उसके सीनियर ने कंप्यूटर सेंटर संचालक को लगाई 7.64 लाख की चपत

Big Swindle: पहले 13 हजार रुपए शेयर मार्केट (Share market) में पैसा लगवाया और मोटा मुनाफा (Profit) दिखाकर झांसे में लिया, जीएसटी (GST) के नाम पर ऐंठते गए रुपए

By: rampravesh vishwakarma

Updated: 29 Dec 2020, 10:29 PM IST

अंबिकापुर. शेयर ट्रेडिंग (Share trading) में लाभ कमाने के चक्कर में कंप्यूटर ट्रेनिंग सेंटर का संचालक ने 7 लाख 64 हजार रुपए गवां दिए। उसके पास 1 दिसंबर 2020 को रिसर्च कंपनी मुंबई से एक लड़की का फोन आया था और उसने एलगो ट्रेडिंग कराने के नाम पर पहले 13 हजार रुपए इन्वेस्ट कराया।

इसका प्रॉफिट दिखने के बाद संचालक जीएसटी के नाम पर कई बार में कुल 7 लाख 64 हजार रुपए दिए गए खाते नंबर में डालता गया। कंप्यूटर ट्रेनिंग संचालक (Computer center owner) ने इसकी रिपोर्ट कोतवाली में दर्ज कराई है। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ अपराध दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।


शहर के कलेक्टोरेट बंगला के पीछे प्रतापपुर रोड निवासी अखिलेश कांत कंप्यूटर सेंटर चलाता है। १ दिसंबर को उसके पास एक युवती का फोन आया और उसने पूछा कि क्या आप स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करते हैं। अखिलेश द्वारा हां कहने पर वह बोली कि हम लोग भी एलगो ट्रेडिंग कराते हैं और इसमें बहुत अच्छा मुनाफा (Profit) है।

इसके बाद दूसरे दिन कंपनी के सीनियर आदित्य कश्यप का फोन आया। उसने नियम के बारे में बताया कि हमारे यहां न्यनतम 13 हजार रुपए से चालू होता है और 6 ट्रेडिंग पूर्ण होने पर मुनाफे का पैसा खाते में भेज दिया जाता है। अखिलेश ने लालच में आकर 13 हजार रुपए से ट्रेडिंग शुरू करा दिया।

३ दिसंबर को जालसाजों द्वारा सॉफ्टवेयर द्वारा ट्रेड कराया गया और स्क्रीन शॉट अखिलेश के मोबाइल पर भेज दिया गया। इसमें 53 हजार 233 रुपए का प्रॉफिट दिखाया गया। इससे वह खुश हो गया। इसके बाद कंपनी का पुन: फोन आया और जीएसटी के नाम पर 13 हजार 175 रुपए तुरंत भेजने को बोला गया।

मुनाफे के चक्कर में उसने तत्काल उतने रुपए ट्रांसफर कर दिया। इसके बाद 4 दिसंबर को पुन: स्क्रीन शॉट भेजा गया। उसमें 2 लाख 3 हजार 777 रुपए का प्रॉफिट दिखाया गया। इसके बाद पुन: फोन आया और 50 हजार 434 रुपए जीएसटी के नाम पर रुपए ट्रांसफर करने के लिए बोला गया। जालसाजों द्वारा भेजे गए स्क्रीन शॉट पर लाखों रुपए मुनाफा देखकर कंप्यूटर संचालक रुपए ट्रांसफर करता गया।


7 लाख 64 हजार गंवाने के बाद ठगी का हुआ एहसास
कंप्यूटर संचालक धीरे-धीरे कर 2 से 10 दिसंबर तक कुल 7 लाख 64 हजार रुपए धोखाधड़ी का शिकार हो गया। काफी दिन बाद भी जब रुपए वापस उसके खाते में नहीं आए तो धोखधाड़ी का एहसास हुआ। इसके बाद उसने इसकी रिपोर्ट कोतवाली में दर्ज कराई है। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ अपराध दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned