scriptTenis player: tennis player Ajit lost his eye sight in national game | नेशनल गेम में बॉल लगने से चली गई टेनिस खिलाड़ी की आंख की रोशनी, कलक्टर ने की मदद | Patrika News

नेशनल गेम में बॉल लगने से चली गई टेनिस खिलाड़ी की आंख की रोशनी, कलक्टर ने की मदद

Tenis Player: 65वीं राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिता के दौरान बॉल से आंख में लग गई थी चोट, धीरे-धीरे कम दिखने लगा और इलाज के अभाव में एक आंख की रोशनी चली (Eye sight lost) गई, खिलाड़ी ने अपने परिजनों के साथ जनदर्शन में पहुंचकर कलक्टर से लगाई गुहार, कलक्टर ने तत्काल की मदद

अंबिकापुर

Published: December 07, 2021 07:14:21 pm

अंबिकापुर. Tenis Player: वर्ष 2020 में आयोजित 65वीं राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिता में सरगुजा जिले के एक होनहार लॉन टेनिस खिलाड़ी अजीत कुजूर की आंख में बॉल से चोट लग गई थी। यह चोट खिलाड़ी के लिए अभिशाप साबित हुआ। धीरे-धीरे आंख से कम दिखने लगा और इलाज के अभाव में उसकी एक आंख की रोशनी चली गई। खेल के क्षेत्र में कुछ कर दिखाने का जज्बा लिए अजीत का खेल भी बंद हो गया। ऐसे में उसने कलक्टर (Collector) से गुहार लगाई कि उसका इलाज हो सके। कलक्टर ने इस मामले की गंभीरता को देखते हुए उसके इलाज की व्यवस्था करने सीएमएचओ को निर्देशित किया। अब अजीत की आंख के इलाज का पूरा खर्च प्रशासन उठाएगा। दरअसल कलक्टर संजीव कुमार झा एवं एसपी अमित तुकाराम कांबले ने मंगलवार को कलेक्टोरेट सभाकक्ष में आयोजित जनदर्शन में लोगों की समस्याएं सुनीं। इस दौरान अजीत ने भी जनदर्शन में पहुंचकर अपनी व्यथा सुनाई।
Tenis player
Tenis player Ajit Kujoor in Collector Jandarshan

जनदर्शन में कलेक्टर ने राष्ट्रीय स्तर के टेनिस बाल खिलाड़ी अजीत कुजूर की समस्या पर संवेदनशीलता का परिचय देते हुए उसकी आंख का इलाज सीएसआर मद से करने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को दिए। उन्होंने सीएमएचओ को तत्काल अजीत को अस्पताल में चिकित्सकों से परीक्षण कराने तथा उच्च इलाज की व्यवस्था करने के निर्देश दिए।
गौरतलब है कि सीतापुर विकासखंड के ग्राम सूर खजूरपारा निवासी अजीत कुजूर ने बताया कि वह 2015 से 2020 तक 61वीं से लेकर 65वां राष्ट्रीय खेल में लॉन टेनिस में प्रतिभागी रहा एवं चयन हेतु प्रयासरत रहा।
65वां राष्ट्रीय खेल के दौरान टेनिस बॉल आंख में लगने के कारण एक आंख की रोशनी धीरे-धीरे कम होती गई और बाद में पूरी तरह से उसकी आंख की रोशनी चली गई। उच्च चिकित्सा संस्थानों में आंख के इलाज के लिए अधिक राशि की व्यवस्था नहीं हो पा रही है। वह खेल के क्षेत्र में कुछ करना चाहता है कि लेकिन नहीं दिखने की वजह से उसकी मंशा अभी भी अधूरी है।
यह भी पढ़ें
शराब दुकान के पास है रोजगार कार्यालय, महिला बोली- साहब, लड़कियों को होती है दिक्कत, कलक्टर ने तत्काल लिया एक्शन


आरक्षक की पत्नी को भी मिली मदद
अंबिकापुर निवासी अर्चना दीक्षित के दो पुत्रों को स्कूल में पुन: दाखिल कराने में मिली मदद। अर्चना दीक्षित ने बताया कि उसका पति पुलिस में आरक्षक है और वह पत्नी और बच्चों को साथ में नहीं रखते हैं और नहीं भरण-पोषण की राशि देते हैं। बच्चों के साथ पिता के घर में ही रह रही है।
उन्होंने बताया कि उनका एक पुत्र हॉलीक्रॉस स्कूल में तथा दूसरा पुत्र कार्मेल स्कूल में पढ़ाई कर रहा था। फीस नहीं भर पाने के कारण दोनों स्कूलों से दोनों पुत्रों को निकाल दिया गया है। कलेक्टर ने जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देशित करते हुए दोनों बच्चों को तत्काल भर्ती कराने के निर्देश दिए हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.