राष्ट्रपति के दत्तक पुत्रों की मौत का सिलसिला जारी, इस बार प्रसूता ने तोड़ा दम, ननद भी गंभीर

Malnutrition: कुपोषण व खून की कमी (Anemia) के कारण पंडो समुदाय (Pando society) के लोगों की असमय चली जा रही जान

By: rampravesh vishwakarma

Updated: 10 Sep 2021, 09:09 PM IST

अंबिकापुर. बलरामपुर जिले में कुपोषण व खून की कमी के कारण पण्डो जनजाति की मौत का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है। खून की कमी के कारण गुरुवार की शाम को रामचंद्रपुर ब्लॉक के ग्राम पंचायत बरवाही श्रीबथान पारा निवासी एक प्रसूता की मौत हो गई।

कुछ दिन पूर्व रामचंद्रपुर ब्लॉक के ही 2 पुत्र व पिता की मौत हो गई थी। इसी बीच एक और पण्डो युवक की कुपोषण से मौत का मामला सामने आया था। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग द्वारा शिविर लगा कर स्वास्थ्य जांच कराई गई थी। इस दौरान कई महिला-पुरुष व बच्चे कुपोषित पाए गए थे।


गौरतलब है कि बलरामपुर जिले के रामचंद्रपुर ब्लॉक के ग्राम पंचायत बरवाही श्रीबथान पारा निवासी महिला देवंती पण्डो पति शिवलाल पण्डो 21 वर्ष की 15-20 दिन पहले सरकारी अस्पताल बरवाही में नार्मल डिलीवरी हुई थी। पण्डो महिला पहले से कुपोषित और कमजोर थी, डिलीवरी के बाद और दिनों-दिन कमजोर होती गई।

दो सप्ताह से उसके हाथ पैर में दर्द था और हाथ पैर, चेहरे में सूजन के अलावा कमजोरी बहुत ज्यादा थी। इसी बीच गुरुवार को घर पर ही उसकी मौत हो गई। बताया जा रहा है कि उसका बच्चा अभी ठीक है लेकिन वह भी कमजोर है।

Read More: राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र कहे जाने वाले पिता व 2 मासूम पुत्रों की मौत, आर्थिक हालत थी खराब


ननद की भी स्थिति गंभीर
बलरामपुर जिले के रामचंद्रपुर इलाके में कई पंडो परिवार के लोग कुपोषित हैं। मृतिका देवंती पण्डो की ननद सोनमतिया पण्डो पिता प्रदीप पण्डो 25 वर्ष भी कुपोषण से जूझ रही है। उसकी भी स्थिति गंभीर बनी हुई है। कुपोषित और शरीर में खून कमी के कारण उसके शरीर के अलावा हाथ-पैर में काफी सूजन है, चेहरा सफेद हो गया है तथा वह पिछले 6 महीने से बीमार है।

Read More: राष्ट्रपति के एक और दत्तक पुत्र की मौत, डॉक्टर ने कहा बाहर ले जाओ, रुपए नहीं थे तो उखड़ गईं सांसें


आर्थिक तंगी व जागरूकता का अभाव
बताया जा रहा है कि पंडो जनजाति आर्थिक तंगी व जागरूकता के अभाव के कारण समय पर इलाज नहीं करा पाते हैं। मृतिका देवंती पण्डो व उसकी ननद सोनमतिया पण्डो की तबियत पिछले कई महीने से खराब थी। जागरूकता के अभाव व आर्थिक तंगी के कारण समय पर इलाज नहीं मिलने से एक की मौत हो गई।


मृतिका के घर पहुंचे नर्स व मितानिन
देवंती पण्डो की मौत की जानकारी मिलते ही स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। मौत की खबर मिलते ही अस्पताल से नर्स, मितानिन सहित अन्य मृतिका के घर पहुंचे और लोगों की स्वास्थ्य जांच की। यहां मृतिका की ननद की स्थिति गंभीर देखते हुए उसे अस्पताल में भर्ती करने की तयारी की जा रही है।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned