बेटे गणेश की मौत पर मिला था मुआवजा, पिता ने बनवा दिया भगवान गणेश का मंदिर

Unique News: बहन व दोस्तों के साथ नहाने के दौरान 9 वर्षीय बालक गणेश (Ganesh) की डूबकर हो गई थी मौत, जहां बेटा डूबा उसी स्थान पर मंदिर (Temple) का कराया निर्माण

By: rampravesh vishwakarma

Published: 18 Sep 2021, 03:41 PM IST

अंबिकापुर. हादसे में अपने 9 वर्षीय इकलौते बेटे गणेश को खोने के बाद शर्मा परिवार पूरी तरह टूट चुका था। सरकार की ओर से पिता को मुआवजा मिला तो उसने बेटे की याद में उक्त पैसे से भगवान गणेश का मंदिर बनवा दिया। मंदिर का निर्माण उसी जगह कराया गया, जिस नदी के घाट पर बेटे की डूबकर मौत हुई थी।

अब पूरा परिवार हर दिन मंदिर जाकर भगवान गणेश की पूजा कर बेटे गणेश को याद करता है। मंदिर में पूजा करने दूसरे जिले व राज्य से भी श्रद्धालु आते हैं।


जशपुर जिले के कोतबा को धर्म की नगरी के नाम से जाना जाता है। यहां के वार्ड क्रमांक 5 मंदिरपारा निवासी भोला शर्मा के परिवार में 6 जुलाई 2016 को एक हादसा हुआ था। दरअसल भोला शर्मा का इकलौता पुत्र 9 वर्षीय गणेश शर्मा 6 जुलाई को दोस्तों व बहन के साथ नहाने सतीघाट गया था।

Read More: अर्चिता 4 साल से बना रहीं ‘इको फ्रेंडली’ गणेश, विसर्जन के बाद प्रतिमा ले लेती है पौधे का रूप

यहां पैर फिसल जाने से वह गहरे पानी में चला गया और डूबकर उसकी मौत हो गई थी। इस हादसे ने शर्मा परिवार को झकझोर कर रख दिया था। प्राकृतिक रूप से हुई मौत पर शासन-प्रशासन की ओर से परिवार को मुआवजा मिला।

इस मुआवजे की राशि को भोला शर्मा ने ऐसी जगह उपयोग किया, जो उनके और उनकी आने वाली पीढिय़ों के लिए यादगार बन गया।


भगवान गणेश का बनवाया मंदिर
बेटे गणेश की याद में पिता भोला शर्मा ने उक्त स्थल पर ही भगवान गणेश की मंदिर की नींव रखी, जिस स्थल पर बेटे का साथ हमेशा के लिए छूट गया था। घटना के करीब डेढ़ साल बाद 18 जनवरी 2018 को मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा हुई।

Read More: पंडालों में विराजने तैयार हुए लंबोदर, कई आकर्षक रूप देख आप भी हो जाएंगे मोहित- देखें Video

यह मंदिर एक पिता व परिवार की यादों में हमेशा के लिए समा गया। पूरा परिवार हर दिन इस मंदिर में पूजा कर मासूम गणेश को याद करता है। इस मंदिर में जशपुर के अलावा रायगढ़ जिले व ओडिशा के श्रद्धालु भी आते हैं।


कष्टों को दूर करने वाले हैं भगवान गणेश
इस संबंध में भोला शर्मा कहते हैं कि भगवान गणेश (Lord Ganesha) खुद विघ्रहर्ता हैं। मैंने सतीघाट में उनकी प्रतिमा की स्थापना कर दी है। जो मेरे बेटे के साथ हुआ, वह किसी और के साथ न हो, इसी कामना को लेकर सबकी रक्षा की प्रार्थना करता हूं।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned