संदिग्ध हालत में मिली महिला की लाश, 7 दिन से थी लापता, शव बरामद करने 7 किमी पैदल चली पुलिस

Woman murder: महिला की हत्या (Woman murder) की जताई जा रही आशंका, 7 किमी पैदल जंगल, पहाड़ व नदी पार कर पहुंची पुलिस व फोरेंसिक एक्सपर्ट (Forensic expert) की टीम

By: rampravesh vishwakarma

Published: 17 Jul 2021, 09:59 PM IST

उदयपुर. पति के साथ मछली मारने गई महिला अचानक गायब हो गई थी। 7 दिन बाद उसका शव सड़ी-गली अवस्था में मिला। सूचना पर पुलिस 7 किमी पैदल चलकर नदी, पहाड़ पार करते मौके पर पहुंची और शव को बरामद किया।

पुलिस ने पीएम पश्चात शव को दफन कर दिया। पुलिस महिला की हत्या की आशंका (Suspect of Murder) जता रही है तथा उसी दिशा में विवेचना शुरु कर दी है।

Read More: पैलेस के सामने कुएं में संदिग्ध अवस्था में मिली महिला की लाश, गले में लपेटा हुआ था गमछा


उदयपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम बासेन निवासी बीजो बाई पति राम सिंह जाति पंडो 35 वर्ष 5 जुलाई को ग्राम खोटखोर्री नदी किनारे मछली मारने गई थी। उसका पति भी साथ में गया था। 2 दिनों तक अस्थायी झोपड़ी बनाकर मछली मारने का काम पति-पत्नी ने एक साथ किया। 8 जुलाई की रात को बीजो बाई पति को बिना बताए वहां से कहीं चली गई।

उसके पति राम सिंह ने काफी खोजबीन की, लेकिन उसका कुछ पता नहीं चला। 16 जुलाई को परिजन ने गांव वालों के साथ मिलकर महिला की तलाश शुरू की। खोजते-खोजते परोगिया जंगल जोरन झरिया नाला के पास बीजो बाई की लाश सड़ी गली अवस्था में पाई गई। (Woman dead body)

कपड़ा देखकर मृतका के पति ने उसकी पहचान की। इसके बाद 16 जुलाई को ही देर शाम उदयपुर थाने में राम सिंह ने अपनी पत्नी की मौत की सूचना दी। उदयपुर पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले की जांच शुरू की।

Read More: फांसी पर संदिग्ध हालत में झूलती मिली नग्न महिला, शरीर पर थे चोट के निशान


7 किमी चलना पड़ा पैदल
17 जुलाई को फॉरेंसिक एक्सपर्ट, पुलिस एवं डॉक्टर की टीम ग्राम परोगिया से 7 किलोमीटर पैदल चलकर जंगल, पहाड़ व नदी पार करके घटनास्थल पहुंची तो देखा महिला का शव बिल्कुल सड़ी-गली अवस्था में था।

मौके पर ही शव का पंचनामा व पोस्टमार्टम कराया गया तथा अंतिम संस्कार परिजनों की मौजूदगी में उसी जंगल में किया गया। प्रथम दृष्टया पुलिस इसे हत्या (Murder) का मामला मानकर जांच कर रही है।


कार्रवाई में ये रहे शामिल
कार्यवाही के दौरान थाना प्रभारी अलरिक लकड़ा, एएसआई अजीत मिश्रा, राजेंद्र प्रताप सिंह, फॉरेंसिक एक्सपर्ट कुलदीप कुजूर, डॉक्टर जीएल मिरी, आरक्षक रामेश्वर प्रसाद, आनंद प्रकाश, विजेंद्र पैकरा सक्रिय रहे।

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned