अमरीका: फ्लोरिडा के स्‍कूल में पूर्व छात्र निकोलस ने की फायरिंग, 17 बच्‍चों की मौत

Dhirendra Mishra

Publish: Feb, 15 2018 08:49:48 AM (IST)

America
अमरीका: फ्लोरिडा के स्‍कूल में पूर्व छात्र निकोलस ने की फायरिंग, 17 बच्‍चों की मौत

फ्लोरिडा के एक स्‍कूल में एक पूर्व छात्र ने बदले की भावना से ताबड़तोड़ फायरिंग की, जिसमें 17 बच्‍चों की मौत हो गई।

नई दिल्ली: अमरीका के फ्लोरिडा स्थित पार्कलैंड के एक स्कूल में हुई फायरिंग में 17 स्कूली बच्चों की मौत हो गई। फायरिंग में एक दर्जन से अधिक बच्‍चे घायल भी हुए। काफी संख्‍या में बच्‍चों ने क्‍लासरूम में छिपकर अपनी जान बचाई। आरोपी हमलावर स्कूल का ही पूर्व छात्र है। उसे अनियमितता और अन्‍य मामलों में स्कूल प्रबंधन ने कुछ समय पूर्व निकाल दिया था। जानकारी के मुताबिक आरोपी निकोलस बदले की भावना से स्‍कूल पहुंचा। उसने पहले स्कूल में फायर अलार्म बजाया। अलार्म बजने से स्‍कूल में अफरा-तफरी मच गई। इसी बीच उसने ताबड़तोड़ फ़ायरिंग शुरू कर दी। दर्जनों बच्‍चों ने क्लासरूम में छिपकर अपनी जान बचाई। स्‍थानीय पुलिस ने हमलावर छात्र को गिरफ्तार कर लिया है।

 

निकोल्‍स क्रूज के रूप में हुई हमलावर की पहचान
हमलावर आरोपी छात्र की पहचान 19 साल के निकोल्स क्रूज के रूप में हुई है। फ्लोरिडा ब्रोवार्ड कंट्री स्कूल के सुप्रींटेंडेंट रॉबर्ट रुन्सी ने कहा कि फायरिंग में कई लोग मारे गए हैं। यहां की स्थिति बहुत ही दयनीय और कारुण है। स्कूल प्रबंधन को हमले की कोई जानकारी नहीं थी। न ही इस बात की आाशंका थी कि निकोल्‍स क्रूज इस तरह की घटना को अंजाम दे सकता है। उन्होंने कहा कि बंदूकधारी हमलावर पूर्व छात्र 19 साल का है। उसने फायरिंग की घटना को अंजाम देने के बाद चुपचाप पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया। हमले में घायल 14 लोगों को इलाज के लिए नजदीक के अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

 

एक अभिभावक ने बताया, घटना डराबना और दर्दनाक
ब्रोवार्ड कंट्री स्कूल के शेरिफ स्कॉट इजराइल ने आरोपी छात्र के बारे में बताया कि एक समय था जब वह इस स्कूल में पढ़ता था। स्‍कूल से निकाले जाने की वजह से वो बहुत नाराज था। संभवत: इसी बात का बदला लेने के लिए उसने फायरिंग की घटना को अंजाम दिया। कुछ बच्चों के परिवार वालों और दोस्तों ने जानकारी दी है कि जब तक पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर लिया तब तक बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए उन्‍हें क्लासरूम में ही छुपा के रखा गया। एक छात्र के अभिभावक लिस्ट्टिे रोजेनब्लाट ने बताया कि उनकी स्कूल में पढ़ती है। यह घटना वाकई में बहुत डराबना और दर्दनाक है। मुझे यकीन नहीं हो रहा कि ऐसा हुआ है। उनकी बेटी ने उनसे कहा था बह सुरक्षित है लेकिन उसके साथ के अन्य बच्चों ने उसकी मां को बताया कि उन्होंने किसी कि चीख सुनी जिसे गोली मारी गई है। लड़की के पिता ने कहा कि वह भाग्यशाली हैं कि उनकी बेटी सुरक्षित है। फिलहाल मेरी बेटी घटना के बाद से डरी हुई है। हमें यह समझ में नहीं आ रहा है कि अब अपनी बेटी को इस स्‍कूल में पढ़ाई जारी रखूं या नहीं। क्‍योंकि फायरिंग की घटना से स्‍कूल छात्रों में डर समा गया है। साथ ही असुरक्षा का माहौल बन गया है। ऐसे में बच्‍चों की पढ़ाई इस स्‍कूल में आगे जारी रखना खतरे का सौदा साबित हो सकता है।

 

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned