शमीमा बेगम के बाद अब अमरीकी लड़की को झटका, ट्रंप ने भी नागरिकता देने से किया इनकार

शमीमा बेगम के बाद अब अमरीकी लड़की को झटका, ट्रंप ने भी नागरिकता देने से किया इनकार

Shweta Singh | Publish: Feb, 21 2019 06:32:55 PM (IST) अमरीका

  • अलवामा की रहने वाली मुथा ने आतंकी बनने के लिए छोड़ा था घर
  • अब लौटना चाहती है घर
  • ट्रंप ने अमरीकी नागरिक मानने से किया इनकार

वाशिंगटन। अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि आतंकी गुट इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने के लिए अमरीका छोड़ने वाली महिला को देश वापस आने की इजाजत नहीं दी जाएगी। अलवामा निवासी होडा मुथाना उस समय 20 साल की थी जब उसने सीरिया में आईएस के एक गुर्गे से शादी करने के लिए घर छोड़ा था।

झूठ बोलकर भागी थी घर से

घर से निकलने से पहले उसने अपने परिवार से कहा था कि वह तुर्की में विश्वविद्यालय के एक कार्यक्रम में जा रही है। फिलहाल वह सीरिया के शरणार्थी शिविर में अपने छोटे बेटे के साथ रह रही है। बुधवार को ट्रंप ने ट्वीट में कहा, 'मैंने विदेश मंत्री माइक पोम्पियो को निर्देश दिया है होडा मुथाना को वापस देश में नहीं आने दिया जाए और वह इससे पूरी तरह सहमत है।' मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पोम्पियो ने पहले कहा कि मुथाना अमरीकी नागरिक नहीं है और उसे वापस नहीं आने दिया जाएगा। उन्होंने इससे संबंधित एक बयान में कहा, 'मिस होडा मुथाना अमरीकी नागरिक नहीं है और उसे वापस अमरीका नहीं आने दिया जाएगा। उसके पास कोई कानूनी आधार नहीं है, कोई वैध अमरीकी पासपोर्ट नहीं है,और न ही अमरीकी यात्रा करने का कोई वीजा है।'

मीडिया की मदद से जाहिर किया पश्चाताप

आपको बता दें कि महिला ने इससे पहले सीरिया में आईएस के तीन गुर्गो से शादी की थी। सीरिया में रहने के दौरान उसने ट्विटर पर अमरीकियों की हत्या की अपील की थी। मुथाना अब 24 साल की है। उसने उत्तरी सीरिया से इस हफ्ते अपने छोटे बेटे के साथ सिलसिलेवार साक्षात्कारों में काफी पश्चाताप जाहिर की है। उसने एक प्रतिनिधि की मदद से एक मीडिया हाउस को दिए एक हस्तलिखित बयान में कहा, 'जब मैं सीरिया के लिए रवाना हुई थी उस समय मैं भोली-भाली और हठी युवती थी।' उसने कहा, 'अपनी बीती बातों के लिए मुझे खेद है जिससे मैंने अपने परिवार और अपने देश के सरोकारों को चोट पहुंचाया है।' गौरतलब है कि इससे पहले ब्रिटेन की 'जिहादी दुल्हन' यानी शमीमा बेगम नाम की महिला ने भी घर वापसी का मन बनाया था। लेकिन उसे भी ब्रिटेन, बांग्लादेश और नीदरलैंड से इसी तरह का झटका मिला है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned