America: टल सकता है राष्ट्रपति चुनाव? Donald Trump ने वोटिंग के दौरान धोखाधड़ी की जताई आशंका

HIGHLIGHTS

  • अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ( US President Donald Trump ) ने आगामी चुनाव को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। ट्रंप ने राष्ट्रपति चुनाव ( Presidential Election ) को टालने की बात कही है।
  • राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि चुनाव में मेल इन सिस्टम ( Mail in system ) से वोटिंग ( Voting ) होनी है। यदि ऐसा होता है तो अमरीका के इतिहास ( History Of America ) के सबसे गलत और फर्जी चुनाव होंगे।

By: Anil Kumar

Updated: 31 Jul 2020, 12:38 AM IST

वाशिंगटन। अमरीका ( America ) में नवंबर में राष्ट्रपति चुनाव ( Presidential Election ) होने वाले हैं। इसके लिए दोनों ही मुख्य दलों के प्रत्याशी लगातार चुनाव प्रचार कर रही हैं। लेकिन इन सबके बीच एक बड़ी खबर सामने आई है। अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ( US President Donald Trump ) ने आगामी चुनाव को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। ट्रंप ने चुनाव को टालने की बात कही है। उन्होंने चुनाव में धोखाधड़ी की आशंका जाहिर करते हुए कहा है चुनाव को टालने का सुझाव दिया है।

दरअसल, राष्ट्रपति ट्रंप ने मेल-इन वोटर ( Mail-In Voter ) धोखाधड़ी के अपने दावों को फिर से दोहराया है। ट्रंप ने ट्वीट किया, 'वैश्विक मेल इन वोटिंग ( न कि अनुपस्थित मतदान, जो कि अच्छा है ) से 2020 का चुनाव इतिहास का सबसे ज्यादा गलत और धोखाधड़ी वाला साबित होगा। यह चुनाव अमरीका के लिए शर्मनाक होगा। चुनाव कराने में तब तक देरी करें, जब तक लोग सुरक्षित रूप से मतदान करने में सक्षम न हो जाएं। मेल-इन वोटिंग के माध्यम से व्यापक मतदाता धोखाधड़ी का कोई सबूत नहीं है।'

US Presidential Election: डोनाल्ड ट्रंप ने Silent Majority का दावा किया, कहा- बिडेन उनके सामने कहीं नहीं टिकते

बता दें कि राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि चुनाव में मेल इन सिस्टम ( Mail-In System ) से वोटिंग होनी है। यदि ऐसा होता है तो अमरीका के इतिहास के सबसे गलत और फर्जी चुनाव होंगे।

विपक्ष ने ट्रंप के आशंकाओं को नकारा

आपको बता दें कि राष्ट्रपति ट्रंप की आशंकाओं को नकार दिया है। विपक्षी नेताओं का कहना है कि अमरीकी चुनावों में धोखाधड़ी के कोई सबूत नहीं हैं। डेमोक्रिटिक नेताओं ( Democratic Leader ) ने कहा है मेल-इन वोटिंग की जटिल प्रक्रिया को बेहतर बनाए जाने की सख्त जरूरत है।

बता दें कि इससे पहले मंगलवार को ट्रंप ने मेल-इन बैलेट (ईमेल या चिट्ठी के जरिए वोटिंग) का विरोध किया था। एरिजोना में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि 'अगर 2020 चुनाव में ईमेल से वोटिंग की मंजूरी दी जाती है तो जरा सोचिए क्या होगा? ये सभी वोट किसे मिलेंगे। ऐसा हुआ तो यह देश के इतिहास का सबसे भ्रष्ट चुनाव हो सकता है। डेमोक्रेट्स धोखाधड़ी करना चाहते हैं।'

अमरीकी राष्ट्रपतियों के लिए अच्छी नहीं रही आर्थिक मंदी, ट्रंप की राहें भी मुश्किल, जानिए क्यों?

अपने भाषण में ट्रंप ने आगे कहा था कि अमरीका सबसे बुरे दौर यानी दूसरे विश्व युद्ध ( Second World War ) के दौरान चुनाव करा सकता है, तो कोरोना महामारी ( Coronavirus Epidemic ) के बीच यह क्यों नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि ऐसी कोई वजह नहीं है कि चुनाव न करा सकें। लेकिन विपक्षी दल कोरोना महामारी को बहाना बनाकर लोगों को वोटिंग से रोकना चाहती है। इसके बाद फर्जी मेल इन बैलेट भेजकर चुनाव में धोखाधड़ी करने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि, हम ऐसा होने नहीं देंगे।

बता दें कि अमरीका में 3 नवंबर को राष्ट्रपति चुनाव होने वाले हैं। लेकिन राष्ट्रपति ट्रंप अब यदि इसे टालने की बात कह रहे हैं। लेकिन अमरीका में राष्ट्रपति चुनाव ( US Presidential Election ) की तारीखों को केवल कांग्रेस ही बदल सकती है। अमरीकी संसद ( US Parliament ) के निचले सदन में डेमोक्रेट्स का शासन है। ऐसे में ये संभावना कम ही है कि चुनाव की तारीक टल जाए। ट्रंप ने पहले कहा था कि उन्हें चुनाव के लिए आगे बढ़ने में कोई समस्या नहीं है।

President Donald Trump
Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned