रूस को रोकने के लिए अमरीका ने पाक के परमाणु कार्यक्रम को किया था नजरअंदाजः रिपोर्ट

अफगानिस्तान में मदद के लिए अमरीका ने पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम को नजरअंदाज किया था।

By:

Published: 21 Dec 2018, 06:38 PM IST

वाशिंगटनः अमरीकी विदेश मंत्रालय ने एक गोपनीय रिपोर्ट सार्वजनिक की है। इसके अनुसार, अफगानिस्तान में मदद के लिए अमरीका ने पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम को नजरअंदाज किया था। अफगानिस्तान को लेकर 1977-1980 के बीच के अमरीकी संबंधों पर सार्वजनिक किए गए इन दस्तावेजों के मुताबिक, पाक के गुप्त परमाणु हथियार कार्यक्रम को लेकर अमरीका ने जानबूझ कर चुप्पी साध ली थी। चीन ने भी इस मामले में अमरीका का साथ दिया था।

चीन ने की थी पाकिस्तान की तरफदारी
दरअसल अफगानिस्तान में 1977-1980 के दौरान रूसी हस्तक्षेप को रोकने के लिए अमरीका को पाकिस्तान के समर्थन की जरुरत थी। तत्कालीन पाकिस्तानी तानाशाह जनरल ज़िया-उल-हक और चीन के उपप्रधानमंत्री देंग शियोफेंग ने अमरीका के सामने यह शर्त रखी थी कि वे समर्थन तभी करेंगे जब अमरीका पाक के परमाणु कार्यक्रम को नजरअंदाज करेगा। अमरीका ने पाकिस्तान की यह शर्त मान ली थी। चीन ने पाकिस्तान को सैन्य और वित्तीय मदद के लिए भी अमरीका को मना लिया था। बता दें कि भारत को सोवियत संघ(रूस) का समर्थक माना जाता था इसलिए चीन और पाकिस्तान अमरीका का आसानी से राजी कर लिए थे।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर.

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned