अमरीका का हजारों भारतीयों को झटका, सीनेट ने आव्रजन विधेयक किया खारिज

अमरीका का हजारों भारतीयों को झटका, सीनेट ने आव्रजन विधेयक किया खारिज

Mohit sharma | Publish: Feb, 16 2018 07:12:47 PM (IST) अमरीका

स विधेयक में बिना दस्तावेज के अमरीका में रह रहे 18 लाख युवा आव्रजकों की अमरीकी नागरिकता और मेक्सिको की सीमा पर दीवार बनाने से संबंधित प्रावधान हैं।

नई दिल्ली। अमरीकी सीनेट में आव्रजन सुधार संबंधी विधेयक पारित नहीं हो सका है। सीनेट ने 'ड्रीमर्स' की किस्मत से जुड़े समाधान के चार प्रस्तावों को अस्वीकार कर दिया। इससे बिना दस्तावेज के अमरीका में रह रहे लाखों युवा आव्रजकों (ड्रीमर्स) के भविष्य पर अनिश्चितता के बादल मंडराने लगे हैं। अमरीकी राज्य मेन की रिपब्लिकन सीनेटर सुजन कॉलिन्स के नेतृत्व में द्विदलीय विधेयक को गुरुवार को 54 ही मत मिले जबकि इसे पारित होने के लिए 60 मतों की जरूरत थी। इस विधेयक में बिना दस्तावेज के अमेरिका में रह रहे 18 लाख युवा आव्रजकों की अमरीकी नागरिकता और मेक्सिको की सीमा पर दीवार बनाने से संबंधित प्रावधान हैं। इयोवा के रिपबिल्कन सीनेटर चक ग्रास्ली ने ट्रंप की वरीयताओं को शामिल करते हुए विधेयक प्रस्तुत किया, लेकिन इसे सिर्फ 39 मत मिले क्योंकि रिपब्लिकन के 14 सीनेटरों ने विपक्षी पार्टी डेमोक्रेट का साथ दिया।

मिले सिर्फ 39 मत

जानकारी के अनुसार गुरुवार को मतदान के कुछ घंटे पहले व्हाइट हाउस ने कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के सलाहकारों ने उनसे आग्रह किया कि विधेयक अगर उनके (राष्ट्रपति के) सामने पहुंचे तो वह इसे वीटो कर दें। ट्रंप इस बात पर जोर देते आए हैं कि ड्रीमर्स की सहायता के बदले डेमोक्रेट और नरम रुख वाले रिपब्लिकन नेताओं को न सिर्फ अमरीका-मेक्सिको सीमा पर दीवार के निर्माण के लिए वित्तीय सहायता का प्रबंध करना होगी बल्कि वैध आव्रजन पर तय की गई जरूरी नई सीमाओं पर सहमति भी जतानी होगी। इयोवा के रिपबिल्कन सीनेटर चक ग्रास्ली ने ट्रंप की वरीयताओं को शामिल करते हुए विधेयक प्रस्तुत किया, लेकिन इसे सिर्फ 39 मत मिले क्योंकि रिपब्लिकन के 14 सीनेटरों ने विपक्षी पार्टी डेमोक्रेट का साथ दिया।

कभी कानून नहीं बन पाएगी योजना

सीनेट के अल्पमत के नेता चक शूमर ने बाद में कहा कि यह वोट इस बात का सबूत है कि राष्ट्रपति ट्रंप की योजना कभी भी कानून नहीं बन पाएगी। अगर वह द्विदलीय प्रयासों को नाकाम करने की कोशिश करना छोड़ देंगे, तो एक अच्छा विधेयक पास होगा।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned