ट्रंप की सुरक्षा में तैनात होंगे लुधियाना के बेटे अंशदीप सिंह भाटिया, लड़नी पड़ी थी कानूनी लड़ाई

ट्रंप की सुरक्षा में तैनात होंगे लुधियाना के बेटे अंशदीप सिंह भाटिया, लड़नी पड़ी थी कानूनी लड़ाई

Shweta Singh | Publish: Sep, 12 2018 04:18:03 PM (IST) | Updated: Sep, 12 2018 04:35:11 PM (IST) अमरीका

इस पद पर नियुक्त होने वाले पहले सिख हैं अंशदीप।

वाशिंगटन। अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सुरक्षा की जिम्मेदारी अब एक भारतीय मूल के व्यक्ति के हाथों में सौंप दी गई है। लुधियाना के जन्मे अंशदीप सिंह भाटिया को अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप की सुरक्षा की कमान दी गई है। हालांकि लुधियाना से जाकर अमरीका में बसने वाले अंशदीप को इस पद के लिए कानूनी लड़ाई भी लड़नी पड़ी थी।

पगड़ीधारी होने के कारण पहले नहीं हुई थी ड्यूटी पर बहाली

इस खबर को सुनने के बाद उनके परिजनों और मित्रों का सिर गर्व से ऊंचा हो गया है। वाइट हाउस में अंशदीप का चयन पहले ही कर लिया गया था, लेकिन सिख होने के नाते वह पगड़ी पहनते हैं। अमरीकी प्रोटोकॉल के चलते उन्हें ड्यूटी पर तैनात नहीं किया गया था। दरअसल अमरीकी प्रोटोकॉल के तहत यह प्रावधान किया गया है कि राष्ट्रपति की सुरक्षा में शामिल होने वालों का पहनावा सामान्य होना चाहिए। जब अंशदीप से उनकी पगड़ी को लेकर आपत्ति जताई गई, तो उन्होंने पगड़ी उतारने के बजाय अमरीकी कोर्ट का दरवाजा खटखटाया, जिसमें उन्हें सफलता भी मिली। कोर्ट ने इस मामले पर फैसला सुनाते हुए कहा कि उनके अधिकारों का बचाव किया जाए और अंशदीप को जितनी जल्दी हो सके सुरक्षा दस्ते में बहाल किया जाए।

इस पद पर नियुक्त होने वाले पहले सिख हैं अंशदीप

इस पद पर अंशदीप की नियुक्ति पर उनका पूरा परिवार बेहद खुश है। दादा कंवलजीत सिंह भाटिया ने इस बारे में बात करते हुए कहा कि अंशदीप इससे पहले एयरपोर्ट सिक्योरिटी में तैनात थे। बाद में इसी हफ्ते ट्रेनिंग पूरी होने के बाद अमरीका में हुए एक समारोह में राष्ट्रपति की सुरक्षा के लिए तैनात सुरक्षा दस्ते में उन्हें शामिल करने का ऐलान किया गया। आपको बता दें कि इस पद पर नियुक्त होने वाले अंशदीप पहले सिख हैं। अंशदीप का परिवार 1984 में हुए दंगों का पीड़ित बताया जाता है।

Ad Block is Banned