क्यूबा में मछली पकड़ने से लेकर हेयरबैंड की तरह किया जाता है कॉन्डम का इस्तेमाल, ये है वजह

क्यूबा में मछली पकड़ने से लेकर हेयरबैंड की तरह किया जाता है कॉन्डम का इस्तेमाल, ये है वजह

Shweta Singh | Publish: Sep, 06 2018 01:06:54 PM (IST) अमरीका

इसके पीछे का कारण हैरान करने वाला है।

हवाना। भारत जैसे प्रगतिशील में जहां आमतौर पर लोग कॉन्डम का नाम लेने से कतराते हैं और सार्वजनिक जगहों पर इसके साथ दिखने से बचते हैं, वहीं एक दुनिया में एक ऐसा देश भी है जहां इसका इस्तेमाल सिर्फ सुरक्षित शारीरिक संबंध बनाने के समय ही नहीं बल्कि कई अन्य कामों के लिए भी किया जाता है। ये खबर कैरिबियाई सागर में स्थित एक द्वीपीय देश, क्यूबा की है। जहां राजनीतिक और आर्थिक नीतियों के चलते कॉन्डम बहुउपयोगी चीज की तरह देखा जाता है।

कई तरह से इस्तेमाल किया जाता है कॉन्डम

मीडिया रिपोर्ट की माने तो यहां पर कॉन्डम महिलाओं और बच्चों के लिए कई तरह से इस्तेमाल किया जाता है। रिपोर्ट की माने तो महिलाएं इस हेयरबैंड की तरह इस्तेमाल करती हैं, तो वहीं ये बच्चों के जन्मदिन की पार्टियों में गुब्बारे के विकल्प की तरह इस्तेमाल किया जाता है।

ये है ऐसे इस्तेमाल का कारण

आपको बता दें कि क्यूबा की राजनीतिक और आर्थिक नीतियां इसके पीछे का बड़ा कारण हैं। ये देश दशकों से अमरीकी बैन झेल रहा है। इसके साथ ही सोवियत मॉडल के केंद्रीयकृत आर्थिक व्यवस्था के चलते वहां के दुकानों में कई दफा दैनिक इस्तेमाल में आने वाली चीजों की कमी पड़ जाती है। उन चीजों की पर्याप्त आपूर्ति नहीं होने पर वहां के लोग उपलब्ध वस्तुओं को ही अपने विकल्प की तरह इस्तेमाल करते हैं और अपनी जरूरतें पूरी करने की कोशिश करते हैं।

मछली पकड़ने से लेकर बर्थडे पार्टी तक

इस संबंध में जब हवाना की एक हेयरड्रेसर सैंड्रा हेरनांदेज से मीडिया ने बात की तो उन्होंने बताया कि, 'हमारे पास ग्राहक बहुत उम्मीद लेकर आते हैं जिन्हें हम निराश नहीं करना चाहते हैं। इसलिए जब विकल्पों का अभाव होता है तो हमारे पास जो उपलब्ध होता है तो उसी में से कुछ नया विकल्प बनाने पर मजबुर होते हैं।' सैंड्रा ने बताया कि वो अपने ग्राहकों के लिए हेयरबैंड के रूप में कॉन्डम का इस्तेमाल करती हैं। वहीं कॉन्सर्ट और बच्चों की बर्थडे पार्टियों में भी बड़े आकार के गुब्बारों की जगह कॉन्डम का पर प्रयोग किया जाता है। यही नहीं वहां इन गुब्बारों में सफेद रिबन बांधकर इन्हें समुद्र किनारे उड़ाया भी जाता है। इसके अलावा कभी-कभार मछली पकड़ने के खेल में कॉन्डम की सहायता ली जाती है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned