मार्क जुकरबर्ग के घर जन्मी बेटी अगस्त...पढ़िए पिता का बेटी के नाम खत

मार्क जुकरबर्ग ने अपनी नवजात बेटी अगस्त के नाम एक खत भी लिखा है। अंग्रेजी में लिखे गए इस खत का हिंदी अनुवाद कुछ इस तरह है...

नई दिल्ली। फेसबुक के संस्थापक और सीईओ मार्क जुकरबर्ग दूसरी बार पिता बने हैं। 28 अगस्त को उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर इस बात की जानकारी देते हुए परिवार की नई सदस्य के साथ एक तस्वीर शेयर की है। जुकरबर्ग ने बच्ची का नाम अगस्त रखा है। तस्वीर में जुकरबर्ग के अलावा पत्नी प्रेसिला चान और बड़ी बेटी मेक्सिमा नन्ही परी के साथ बेहद खुश नजर आ रहे हैं।

इस पोस्ट के साथ मार्क जुकरबर्ग ने अपनी नवजात बेटी अगस्त के नाम एक खत भी लिखा है। अंग्रेजी में लिखे गए इस खत का हिंदी अनुवाद कुछ इस तरह है...

डियर अगस्त,
दुनिया में तुम्हारा स्वागत है।, मैं और तुम्हारी मॉम दोनों बहुत उत्साहित हैं।
जब तुम्हारी बड़ी बहन का जन्म हुआ था तब भी हमने दुनिया के बारे में उसके नाम खत लिखा था। अब तुम्हारा जन्म हुआ है... तुम एक ऐसी दुनिया में रहोगी जहां तुम्हें बेहतर शिक्षा मिलेगी, बीमारियां कम होंगी, मजबूत समुदाय और बेहतर समानताएं होंगी।
तुम्हारा जन्म जिस दौर में हुआ है, वहां विज्ञान और तकनीक में लगातार तरक्की हो रही है। ऐसे में तुम हमसे ज्यादा बेहतर जिंदगी जिओगी और इसमें हमारी जिम्मेदारी भी महत्वपूर्ण है। मुझे मालूम है कि ज्यादातर सुर्खियां इस बात पर होती हैं कि क्या गलत है, लेकिन मुझे पूरा भरोसा है कि पॉजिटिव ट्रेंड को जीत मिलेगी।

हम लोग तुम्हारी पीढ़ी और भविष्य को लेकर बहुत आशावादी हैं। दुनिया एक बेहद गंभीर जगह है, इसलिए यह जरूरी है कि तुम बाहर जाकर खेलने का वक्त निकालना। जैसे-जैसे तुम बड़ी होगी वैसे-वैसे तुम व्यस्त होती जाओगी। इसलिए मुझे उम्मीद है कि तुम फूलों की खुशबू महसूस करोगी और बकेट में अपनी मनचाही पत्तियां एकत्र कर सकोगी। मुझे उम्मीद है कि तुम अपने पसंदीदा डॉक्टर सीस की किताबें भी पढ़ोगीऔर अपनी बड़ी बहन मैक्स के साथ झूला झूलोगी। तुम अपनी कहानियां खुद बनाओगी।
तुम लिविंग रूम से लेकर यार्ड तक पूरे घर में जमकर दौड़ोगी, और तब तक दौड़ लगाओगी, जब तक थक नहीं जाओगी। मैं चाहता हूं कि तुम जमकर नींद लो। उम्मीद है तुम भी सोने में माहिर होगी।
हम चाहते हैं, तुम सपनों में भी यह महसूस कर सको कि हम तुम्हें कितना प्यार करते हैं। और एक खास बात... बचपन जादू भरा होता है और सिर्फ एक ही बार मिलता है, इसलिए तुम भविष्य की चिंता में इसे बर्बाद मत करना। तुम्हारे भविष्य की चिंता करने के लिए हम हैं। तुम्हारी पीढ़ी के लिए इस दुनिया को बेहतर बनाने के लिए हम पूरी कोशिश करेंगे।
अगस्त, ‘वी लव यू सो मच’ हम इस यात्रा में तुम्हारे साथ चलने के लिए बेहद उत्साहित हैं। तुम्हें एक खुशहाल जिंदगी मिले।
लव,
मॉम एंड डैड

Chandra Prakash Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned