FBI की रिपोर्ट में खुलासा, अमेरिका में तेजी से बढ़ रहा हेट क्राइम

FBI की रिपोर्ट में खुलासा, अमेरिका में तेजी से बढ़ रहा हेट क्राइम

Chandra Prakash | Publish: Nov, 14 2017 03:26:12 PM (IST) अमरीका

अमरीका की एफबीआई ने एक रिपोर्ट जारी कर इस बात का खुलासा किया है कि पिछले एक साल में अमरीका में हेट क्राइम में 4.6 फीसदी की बढोतरी हुई है।

वाशिंगटन: जहां पूरी दुनिया में हेट क्राइम को खत्म करने की कोशिश की जा रही है तो अमरीका में इसका उल्टा असर देखने को मिल रहा है। अमरीका की सरकार एजेंसी ने एक रिपोर्ट जारी कर इस बात का खुलासा किया है कि पिछले एक साल में अमरीका में हेट क्राइम में 4.6 फीसदी की बढोतरी दर्ज की गई है।


4.6% की दर से बढ़ रहा है हेट क्राइम
फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (एफबीआई) ने कहा है कि अमरीका में 2016 में हेट क्राइम की कुल संख्या 6,121 थी जबकि 2015 में 5,850 द्वेषपूर्ण अपराध के मामले सामने आए थे। अमरीका में नस्ल, धर्म, रंग के कारण हेट क्राइम की संख्या 2016 में 2015 के मुकाबले 4.6 फीसदी की दर से बढ़ी है।


विकलांगता और लिंक पहचान से भी हिंसा
समाचार एजेंसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि यह आपराधिक घटनाएं नस्ल, जाति, वंश, धर्म, यौन पहचान, विकलांगता के प्रति पूर्वाग्रह से प्रेरित थीं। आंकड़ों को मुताबिक, हेट क्राइम की संख्या में लगातार दूसरे साल वृद्धि हुई है और इनमें से ज्यादातर घटनाएं किसी व्यक्ति विशेष के पूर्वाग्रह (सिंगल बॉयस इंसीडेंट) से संबंधित थीं।


ऐसे अपराध में हर तरह के लोग शामिल
एफबीआई ने बताया कि ऐसे अपराधों के पीड़ित कोई व्यक्ति, व्यवसाय, सरकारी संस्थाएं, धार्मिक संगठन या फिर कोई पूरा समाज हो सकता है। 2016 में व्यक्ति विशेष द्वारा पूर्वाग्रह के कारण घटित अपराध की घटनाओं में करीब 58 फीसदी घटनाएं नस्ल, जातीयता और वंशवाद के पूर्वाग्रह से प्रेरित थीं जबकि 21 फीसदी धार्मिक पूर्वाग्रह से प्रेरित थीं। साथ ही 18 फीसदी यौन पहचान से जुड़ी घटनाएं थीं।


अश्वेत विरोधी घटनाएं ज्यादा हुईं
आंकड़ों के मुताबिक, नस्ल से संबंधित घटनाओं में ज्यादातर अश्वेत विरोधी घटनाएं देखी गईं जबकि 20 फीसदी श्वेत विरोधी दर्ज की गईं। धर्म-संबंधित अपराधों में से आधे से ज्यादा यहूदी विरोधी थीं, जबकि एक चौथाई मुस्लिम विरोधी थीं। आंकड़ों को जारी करने के बाद एक बयान में अमेरिका के अटॉर्नी-जनरल जेफ सेशन ने कहा, "किसी भी व्यक्ति को इस वजह से होने वाले हिंसक हमलों से डरना नहीं चाहिए कि वे कौन हैं, किसमें विश्वास रखते हैं और किसको पूजते हैं।"

Ad Block is Banned