किम-ट्रंप की मुलाकात से पहले अमरीका ने बढ़ाया उत्तर कोरिया पर दबाव

पहले उत्तर कोरिया परमाणु हथियार नष्ट करे, फिर प्रतिबंध हटेंगे यह कहना है अमरीकी विदेश मंत्री का।

By:

Published: 09 Jun 2018, 03:24 PM IST

वाशिंगटनः अमरीका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो का कहना है कि उत्तर कोरिया से अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध तब तक हटाए नहीं जाएंगे, जब तक वह अपने सभी परमाणु हथियार कार्यक्रमों को नष्ट नहीं कर देता। अमरीकी मीडिया के मुताबिक, पोम्पियो ने शुक्रवार को कहा कि इसमें उत्तरी कोरिया के बाहर स्थित अज्ञात संभावित अवैध स्थल भी शामिल होंगे। पोम्पियो ने कहा, "मैं इसके विवरण की गहराई में नहीं जाना चाहता लेकिन जब आप पूर्ण निरस्त्रीकरण की बात करते हैं तो इसमें सभी परमाणु स्थल शामिल होंगे, सिर्फ वहीं नहीं जो सर्वविदित हैं।" उन्होंने कहा, "इसलिए हमें यह सुनिश्चित करना है, कि यह कार्य पूरा हो।"

अमरीका बनाएगा उत्तर कोरिया पर दबाव
माइक पोम्पियो ने कहा, "परमाणु निरस्त्रीकरण उत्तर कोरिया की ओर से बहुत बड़ी प्रतिबद्धता है और इसके समारूप सुरक्षा आश्वासन भी होना चाहिए।" पोम्पियो के बयान से साफ जाहिर होता है कि अमरीका परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए उत्तर कोरिया पर दवाब बरकरार रखेगा। उधर, अमरीका के शीर्ष राजनयिक ने एक संभावना जाहिर करते हुए कहा कि उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन और अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच 12 जून को होने वाली बैठक में किसी प्रकार के लिखित बयान या शासकीय सूचना उभरकर सामने आ सकती हैं, जो वास्तविक उपलब्धियां कही जाएंगी।

ये भी पढ़ेंः किम और ट्रंप की वार्ता सिंगापुर के सेंटोसा द्वीप पर होगी, गोरखा संभालेंगे सुरक्षा व्यवस्था

12 जून को किम-ट्रंप की मुलाकात
अमरीका पर बार-बार परमाणु बम गिराने की धमकी देने वाले किम जोंग की मुलाकात अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप से 12 जून को सिंगापुर में होने वाली है। दुनिया भर की निगाहें इन दोनों नेताओं के मुलाकात पर है। इससे पहले अमरीका की तरफ से दबाव बनाए जाने सबंधित बयान से नाराज उत्तर कोरिया ने अमरीका को धमकी थी। इस धमकी से नाराज ट्रंप ने बातचीत रद्द कर दी थी लेकिन बाद में फिर मीटिंग करने पर सहमत हो गए।

Donald Trump
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned