America: कमला हैरिस ने किया वादा, कहा- बिना किसी दस्तावेज के रह रहे 1.1 करोड़ लोगों को दी जाएगी नागरिकता

HIGHLIGHTS

  • कमला हैरिस ( Kamala Harris ) ने एक बड़ा बयान में कहा कि देश में बिना किसी दस्तावेज के रहने वाले 1.1 करोड़ लोगों को नागरिकता दी जाएगी।
  • हैरिस ने कहा कि नागरिकता देने को लेकर संसद में एक बिल पेश किया जाएगा।

By: Anil Kumar

Updated: 29 Dec 2020, 06:43 PM IST

वाशिंगटन। आगामी 20 जनवरी को जो बिडेन ( Joe Biden ) अमरीका के 46वें राष्ट्रपति के तौर पर शपथ लेंगे। उससे पहले सरकार गठन की सभी तैयारियां की जा रही हैं। बिडेन के साथ में उप राष्ट्रपति के तौर पर कमला हैरिस ( Kamala Harris ) भी शपथ लेंगी। वह अमरीका की पहली महिला उपराष्ट्रपति होंगी।

शपथ लेने से पहले कमला हैरिस ने एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने वादा किया है कि देश में बिना किसी दस्तावेज के रहने वाले 1.1 करोड़ लोगों को नागरिकता ( America Citizenship ) दी जाएगी। हैरिस ने कहा कि नागरिकता देने को लेकर संसद में एक बिल पेश किया जाएगा।

Kamala Harris ने ईरान और पेरिस समझौते में वापसी का किया वादा, ट्रंप ने की तीखी आलोचना

मंगलवार को कमला हैरिस ने ट्वीट करते हुए कहा कि पदभार संभालने के बाद जो बिडेन और उनकी पहली प्राथमिकता अमरीकी नागरिकों को कोरोना से बचाने की होगी।

पेरिस जलवायु समझौते से फिर जुड़ेगा अमरीका

भारतीय मूल की कमला हैरिस ने आगे यह भी कहा है कि अमरीका एक बार फिर से पेरिस जलवायु समझौते से जुड़ेगा। 2015 में हुए समझौते को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ( President Donald Trump ) ने पक्षपात का आरोप लगाते हुए अमरीका को इससे अलग कर लिया था।

हैरिस ने ट्वीट करते हुए लिखा 'पहले दिन से मैं और बाइडन कोरोना महामारी को नियंत्रित करने और लोगों की जान बचाने के लिए काम करेंगे। हम ड्रीमर्स की सुरक्षा के लिए कदम उठाएंगे और बिना दस्तावेज वाले 1.1 करोड़ लोगों को नागरिकता देने की रूपरेखा के साथ एक बिल संसद को भेजेंगे।’

Kamala Harris का नाम गलत तरह से पुकारा, रिपब्लिकन सीनेटर ने उड़ाया मजाक

आपको बता दें कि अमरीका में ड्रीमर्स का संबंध विदेशी युवाओं से होता है, जो कि डेवलपमेंट, रिलीफ एंड एजुकेशन फॉर एलियन माइनर्स (ड्रीम) कार्यक्रम के योग्य होता है। इस कार्यक्रम को पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के कार्यकाल में शुरू किया गया था, जिसे ड्रीमर्स के नाम से जाना जाता है।

डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन इस कार्यक्रम को बंद करना चाहता था। इस कार्यक्रम के तहत उन अमरीकियों को अस्थायी तौर पर सुरक्षा मुहैया कराया जाता है, जो कि बचपन में ही अमरीका चले आए थे।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned