सौतेले पिता की हैवानियत से लड़की ने दिया बच्चे को जन्म, पीड़िता ही कई सालों से सलाखों के पीछे रहने को मजबूर

सौतेले पिता की हैवानियत से लड़की ने दिया बच्चे को जन्म, पीड़िता ही कई सालों से सलाखों के पीछे रहने को मजबूर

Shweta Singh | Publish: Nov, 13 2018 04:16:41 PM (IST) अमरीका

अभी तक कॉर्टेज के सौतेले पिता को सजा नहीं मिली है। जबकी डीएनए जांच में उसका आरोप साबित हो चुका है।

अन-साल्वाडोर। मध्य अमरीका से एक चौंका देने वाला मामला सामने आया है, जिसमें रेप पीड़िता को ही 20 साल की सजा दी जा सकती है। इस लड़की के साथ उसके ही सौतेले बाप ने यौन उत्पीड़न किया था। जिसके बाद लड़की प्रेग्नेंट हो गई थी। फिलहाल उस पर गर्भपात करने की कोशिश का शक है। पीड़िता के खिलाफ सोमवार से आपराधिक मामले के तहत सुनवाई शुरू हुई है। आपको बता दें कि ये मामला एल सैल्वाडोर का है , जहां पीड़िता ने एक टॉयलेट में बच्चे को जन्म दिया।

70 वर्षीय सौतेले पिता ने की थी दरिंदगी

इमेल्डा कॉर्टेज नाम की ये 20 वर्षीय महिला सैमन मिग्युल गांव की रहने वाली है। जानकारी के मुताबिक कॉर्टेज के 70 वर्षीय सौतेले पिता ने 12 साल की उम्र में ही उसके साथ यौन उत्पीड़न किया था। जिसके बाद अप्रैल 2017 में उसने एक लड़की जन्म दिया। लेकिन बच्ची के जन्म के बाद से ही वो पुलिस कस्टडी में है। कॉर्टेज ने अपने बच्चे को टॉयलेट में जन्म दिया था।

अस्पताल से ही भेज दिया जेल

12 वर्ष की उम्र से ही सौतेले पिता का उत्पीड़न झेल रही कॉर्टेज को पता भी नहीं चला कि वो प्रेग्नेंट है। कहा जा रहा है कि उसे तेज दर्द और ब्लीडिंग की शिकायत होने पर अफरातफरी में अस्पताल ले जाया गया। लड़की को इस हालत में देखकर डॉक्टरों को अबॉर्शन का शक हुआ। उन्होंने इसकी जांच के लिए पुलिस बुला लिया। जिसके बाद हालांकि अधिकारियों को बच्चा जिंदा और स्वस्थ मिला, लेकिन कॉर्टेज को गर्भपात की कोशिश का आरोपी बना दिया गया। बच्ची के जन्म के एक हफ्ते बाद उसे अस्पताल से ही जेल भेज दिया गया। जानकारी के मुताबिक उसे जमानक भी नहीं दी गई।

कॉर्टेज की वकील का बयान

इस मामले में कॉर्टेज की वकील मारिया डेलियान ने अपने बयान में कहा, 'किसी महिला के साथ इस तरह की ज्यादती अपने जिंदगी में पहली बार देखी है। इस पूरे मामले में सरकार ने बार-बार कॉर्टेज के पीड़ित होने अधिकारों का उल्लंघन किया है। उसके साथ हुए अत्याचारों के कारण वो सदमे में है, लेकिन उसे किसी तरह की मनोवैज्ञानिक मदद मुहैया नहीं कराई जा रही है।

किसी भी स्थिति में गर्भपात कराना गैरकानूनी

गौरतलब है कि एल सैल्वाडोर में कानून के मुताबिक किसी भी स्थिति में गर्भपात कराना गैरकानूनी है। ऐसे में पूर्ण प्रतिबंध लगने के कारण बहुत सी महिलाएं परेशानी का शिकार हो रही हैं। बीते कुछ समय में गर्भपात कानूनों के खिलाफ कई तरह के कैंपेन चलाए जा रहे हैं। कई देशों में इससे जुड़े बदलाव भी हुए हैं। हालांकि अभी भी कई ऐसे देश हैं, जहां इस संबंध में कड़े कानून होने के कारण महिलाओं को कई तरह की मुसीबत का सामना करना पड़ता है।

अभी तक नहीं मिली है पिता को सजा

आपको बता दें कि अभी तक कॉर्टेज के सौतेले पिता को सजा नहीं मिली है। जबकी डीएनए जांच में उसका आरोप साबित हो चुका है। वहीं कॉर्टेज को हिरासत में गुजारे हुए 18 महीने के दौरान किसी तरह की मदद नहीं दी गई। यहीं नहीं उसे अभी तक एक बार भी अपनी बच्ची को गोद में लेने तक की इजाजत नहीं दी गई।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned