#metoo: ट्रंप और जिनपिंग को पीछे छोड़, साइलेंस ब्रेकर्स बने पर्सन ऑफ द ईयर

#metoo: ट्रंप और जिनपिंग को पीछे छोड़, साइलेंस ब्रेकर्स बने पर्सन ऑफ द ईयर

Pradeep kumar Pandey | Publish: Dec, 07 2017 01:16:44 PM (IST) | Updated: Dec, 07 2017 01:40:12 PM (IST) अमरीका

यौन उत्पीड़न के खिलाफ शुरू किए गए साइलंस ब्रेकर्स के #metoo अभियान को टाइम मैगजीन ने 'पर्सन ऑफ द इयर' घोषित किया है।

न्यूयॉर्क। सुप्रसिद्ध टाइम मैगजीन ने वर्ष 2017 के 'पर्सन ऑफ द ईयर' का ऐलान कर दिया है। इस बार यौन उत्पीड़न के खिलाफ शुरू किए गए साइलंस ब्रेकर्स के #metoo अभियान को टाइम मैगजीन ने 'पर्सन ऑफ द इयर' घोषित किया है।

साइलेंस ब्रेकर्स बने 'पर्सन ऑफ द ईयर'
आपको बता दें हॉलिवुड के निर्माता-निर्देशक हार्वी वाइंस्टाइन और अन्य पुरुषों ने यौन शोषण से जुड़े मामले को उजागर किया था। इसके बाद इस कैंपेन की शुरुआत हुई थी। अमरीका की ऐक्ट्रेस ऐलिसा मिलानो ने इसके कैंपेन के लिए #MeToo का इस्तेमाल किया था, जो थोड़े से ही समय में पूरी दुनियाभर में फैल गया और यह एक विश्वस्तर कैंपेन के तौर पर जाना गया। टाइम ने इस बार किसी एक व्यक्ति को चुनने के बजाय पूरे कैंपेन को ही 'पर्सन ऑफ द ईयर' का खिताब देने का ऐलान कर दिया।

ट्रंप और जिनपिंग भी थे फाइनल रेस में
एक अमरीकी शो में बुधवार को इस टाइटल के नाम की घोषणा की गई।गौरतलब है जिस शो पर 'पर्सन ऑफ द ईयर' की घोषणा की गयी थी, वहां लंबे समय से होस्ट रहे मैट को प्रताड़ना के आरोपों के बाद हाल ही में निकाला गया है। 'पर्सन ऑफ द थे ईयर' के रेस में अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग भी थे, जो की फाइनलिस्ट भी बने। लेकिन अंत में साइलेंस ब्रेकर्स को चुना गया। टाइम मैगजीन 2017 के कवर पेज पर हॉलीवुड एक्ट्रेस एश्ले जूड, सिंगर टेलर स्विफ्ट, उबर की पूर्व सॉफ्टवेयर इंजीनियर सुजन फाउलर, कैलिफोर्निया की लॉबिस्ट एडामा इवु और स्ट्रॉबेरी पिकर इसाबेल पास्काउल की तस्वीरें छपी हैं। इन शख्सियतों ने अपने साथ हुए यौन शोषण का लेकर दुनिया के सामने खुलकर अपनी बात रखी थी।

क्या है #metoo कैंपेन
यह कैंपेन #metoo के नाम से चलाया जा रहा था। इसमें जिन भी महिला या पुरुष के साथ कभी भी यौन-उत्पीड़न हुआ था, वो इसी हैशटैग के साथ अपना वृतांत साझा किया था। इस कैंपेन के तहत कई बड़े हस्तियों जिनमें बॉलीवुड, हॉलीवुड की अभिनेत्रियां और अलग-अलग क्षेत्रों के लोगो ने अपने साथ हुए यौन उत्पीड़न के अनुभव का हाल सबके सामने रखा।

Ad Block is Banned