University और विदेशी छात्रों के दबाव में झुकी Trump Administration, वीजा रद्द करने का फैसला लिया वापस

HIGHLIGHTS

  • ट्रंप सरकार ( Trump Government ) ने अमरीका में रहकर ऑनलाइन ( Online courses in US Universities ) शिक्षा हासिल करने वाले विदेशी छात्रों का वीजा रद्द ( Foreign students visa canceled ) करने के अपने फैसले को वापस ले लिया है।
  • कोर्ट में ट्रंप प्रशासन इमिग्रेशन और कस्टम विभाग ( Immigration and Customs Department ) के वकील ने कहा कि अब इस सुनवाई कि जरूरत नहीं है, क्योंकि हम ये फैसला वापस लेने के लिए तैयार हैं।

By: Anil Kumar

Updated: 15 Jul 2020, 03:50 PM IST

न्यूयॉर्क। अमरीका ( America ) में विदेशी छात्रों का वीजा रद्द करने के मामले में ट्रंप सरकार को यू-टर्न लेना पड़ा है। अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ( Donald Trump ) यूनिवर्सिटी और विदेशी छात्रों के दबाव में पीछे हट गए हैं।

दरअसल, ट्रंप सरकार ने अमरीका में रहकर ऑनलाइन शिक्षा हासिल ( Online courses in US Universities ) करने वाले विदेशी छात्रों का वीजा रद्द ( Foreign students visa canceled ) करने के अपने फैसले को वापस ले लिया है। मंगलवार को कोर्ट में ट्रंप प्रशासन इमिग्रेशन और कस्टम विभाग के वकील ने कहा कि अब इस सुनवाई कि जरूरत नहीं है, क्योंकि हम ये फैसला वापस लेने के लिए तैयार हैं। अब जब ट्रंप सरकार ने अपना फैसला वापस ले लिया है, तो इससे हजारों विदेशी छात्रों को राहत मिली है। इसमें सबसे अधिक भारतीय छात्र हैं।

विदेशी स्‍टूडेंट्स के Visa मामले में Trump प्रशासन के खिलाफ जॉन हॉप्किन्स यूनिवर्सिटी ने ठोका मुकदमा

कोर्ट में सुनवाई के दौरान जस्टिस एलीसन बरोज ( Justice Allison Burrows ) ने कहा, 'सरकार ने अपना पुराना फैसला रद्द कर दिया है। साथ ही पुराने फैसले पर चल रही कार्रवाई को तुरंत रोकने पर भी सहमति दे दी है।'

ट्रंप सरकार के फैसले से 10 लाख छात्र होते प्रभावित

आपको बता दें कि ट्रंप प्रशासन ( Trump Administration ) ने पिछले हफ्ते आदेश दिया था कि जो विदेशी छात्र अमरीकन यूनिवर्सिटीज से ऑनलाइन एजुकेशन हासिल कर रहे हैं, उन्हें वापस अपने देश जाना होगा। सरकार ने बताया था कि ऑनलाइन कोर्स ( Online Course ) के लिए अमरीका में रहकर पढ़ाई करने की कोई जरुरत नहीं है। लिहाजा सरकार ने फौरन विदेशी छात्रों का वीजा रद्द करने का आदेश जारी कर दिया।

Harvard और MIT विदेशी स्‍टूडेंट के Visa मामले में Trump प्रशासन के आदेश के खिलाफ पहुंचे कोर्ट

हालांकि, सरकार के इस फैसले को लेकर कई यूनिवर्सिटीज और विदेशी छात्रों ने विरोध करना शुरू कर दिया। जॉन हॉप्किन्स यूनिवर्सिटी, हार्वर्ड, एमआईटी ( Massachusetts Institute of Technology ) यूनिवर्सिटीज ने बीते सप्ताह बुधवार को कोर्ट में सरकार के फैसले के खिलाफ याचिका दायर की थी।

भारतीय और चीनी छात्रों पर पड़ता सबसे अधिक असर

सरकार के फैसले की वजह से 10 लाख स्टूडेंट्स पर असर पड़ने वाला था। इसमें सबसे अधिक प्रभाव भारतीय और चीनी छात्रों पर पड़ता। अमरीका में सबसे अधिक स्टूडेंट्स चीन से आते हैं। इसके बाद भारतीय छात्रों ( Indian Students In America ) का नंबर है। अमरीका ग्रेजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन वाले स्टूडेंट्स के लिए F-1 और M-1 कैटेगरी के वीजा जारी करता है।

गौरतलब है कि 2019 में 2 लाख 2 हजार 14 भारतीय छात्र अमरीका गए थे, वहीं 2018 में 1 लाख 96 हजार 271 और 2017 में 1 लाख 86 हजार 267 छात्र अमरीका पढ़ने गए थे। लगातार 6 साल से अमरीका में भारतीय छात्रों की संख्या बढ़ती जा रही है। 2018 के मुकाबले 2019 में 2.9% ज्यादा भारतीय छात्र अमरीका पहुंचे थे।

US President Donald Trump
Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned