पहले अधिकारियों को दिया इराक छोड़ने का आदेश, अब विवाद बढ़ने पर अमरीका ने दी सफाई

पहले अधिकारियों को दिया इराक छोड़ने का आदेश, अब विवाद बढ़ने पर अमरीका ने दी सफाई

Siddharth Priyadarshi | Publish: May, 16 2019 09:56:51 AM (IST) | Updated: May, 16 2019 03:25:06 PM (IST) अमरीका

  • ईरान के साथ तनावपूर्ण संबंधों के चलते अमरीका ने किया फैसला
  • अमरीका को सता रहा है अपने प्रतिष्ठानों पर हमले का डर
  • अमरीका ने खाड़ी में भेजे दिए हैं विमान वाहक युद्धपोत

वाशिंगटन। अपने गैर आपातकालीन अधिकारियों को इराक छोडने के आदेश देने के बाद अब अमरीका ने इसकी सफाई दी है। इस मामले पर गर्म हो रही चर्चाओं के बीच अमरीका ने कहा है कि इराक में खतरे की बढ़ती संभावना को देखते हुए इराक सरकार से इस बात की पहले ही चर्चा की जा चुकी थी। अमरीकी विदेश सचिव माइक पोम्पियो की 7 मई को इराक यात्रा के दौरान अमरीकी चिंताओं को इराकी सरकार के साथ साझा किया,न गया था। अमरीका ने यह भी कहा कि विदेश सचिव ने इराकी सरकार से अमरीकी दूतावास को किसी अन्यत्र सुरक्षित जगह पर शिफ्ट करने का भी आग्रह किया था।

ऑस्ट्रेलिया में क्यों खास है इस बार का चुनाव, किन मुद्दों पर चुनी जाएगी अगली सरकार

इराक के साथ जारी रहेगा सहयोग

अमरीकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा है कि अमरीकी मिशन के पास इराक में अमरीकी नागरिकों को आपातकालीन सेवाएं प्रदान करने की सीमित क्षमता होगी। बयान में कहा गया है कि इराक से गैर आपातकालीन कर्मियों को बाहर निकलने के आदेश दे दिए गए हैं। उधर दूतावास ने कहा है कि अमरीकी नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करना और सुविधाओं को किसी भी अन्य नुकसान से बचाना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। सभी गैर-आपातकालीन सरकारी कर्मचारियों को तुरंत इराक छोड़ने के आदेश के बाद अमरीका ने बुधवार को कहा कि यह आपसी हितों को आगे बढ़ाने के लिए इराकियों के साथ साझेदारी में काम करने के लिए प्रतिबद्ध है।

ब्रिटेन में 'इस्लामोफोबिया' की परिभाषा को लेकर बढ़ा विवाद

 

पहले ही हो चुका था फैसला

बताया जा रहा है कि ईरान के साथ अपने संबंधों और गल्फ एरिया में बढ़ते तनाव के बीच अमरीका ने यह फैसला पहले ही कर लिया था । अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो की यात्रा के दौरान 7 मई को इराक की सरकार को यह सूचित भी कर दिया गया था। अमरीकी मीडिया आउटलेट्स ने बताया कि ट्रम्प प्रशासन द्वारा ईरान या ईरान समर्थित प्रॉक्सी ताकतों द्वारा खाड़ी क्षेत्र में अमरीकी बलों और प्रतिष्ठानों के खिलाफ संभावित खतरों की चेतावनी के बाद गैर-आपातकालीन कर्मचारियों को वापस लेने का निर्णय किया गया। बता दें कि पिछले हफ्ते ही अमरीका ने अमेरिका ने एक पैट्रियट मिसाइल बैटरी और एक युद्धपोत के साथ एक विमान वाहक पोत और बमवर्षक विमानों को फारस की खाड़ी में तैनात किया था।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned