अमरीका में गलती से जारी हुआ मिसाइल अटैक का अलर्ट, जान बचाने के लिए भागे लोग

Kapil Tiwari

Publish: Jan, 14 2018 11:20:57 AM (IST) | Updated: Jan, 14 2018 11:28:40 AM (IST)

अमरीका
अमरीका में गलती से जारी हुआ मिसाइल अटैक का अलर्ट, जान बचाने के लिए भागे लोग

मानवीय गलती की वजह से ये अलर्ट जारी हो गया था, जिसके बाद राज्य के गवर्नर ने माफी मांगकर ये जानकारी दी कि हमले अलर्ट गलत है।

वॉशिंगटन: पूरी दुनिया जानती है कि नॉर्थ कोरिया और अमरीका के बीच पिछले काफी समय से युद्ध की स्थिति बनी हुई है। आए दिन दोनों देशों के राष्ट्राध्यक्ष एक-दूसरे को परमाणु हमले की धमकी देते रहते हैं। लेकिन इस बीच अमरीका के हवाई शहर में नॉर्थ कोरिया की परमाणु हमले की धमकी को लोगों ने सच मान लिया और पूरे शहर में अफरातफरी मच गई। जी हां, हुआ कुछ ऐसा कि हवाई प्रांत में कर्मचारियों की गलती की वजह से पूरे शहर में मिसाइल हमले का अलर्ट जारी हो गया। हालांकि बाद में पता चला कि यह अलर्ट गलती से जारी हुआ है। राज्य प्रशासन जब तक मामला समझ पाता तब तक देर हो चुकी थी और लोग अलर्ट को असली समझते हुए सुरक्षित ठिकानों की तलाश में भागने लगे।

अलर्ट में लोगों से तुरंत सेफ जगह जाने को कहा
इस गलती के लिए हवाई स्टेट गवर्नर ने माफी मांगते हुए कहा कि यह स्थिति एक कर्मचारी के गलत बटन दबाने से पैदा हुई है। दरअसल, राज्य के सभी लोगों के मोबाइल पर एक मैसेज आया, जिसमें हवाई प्रांत पर मिसाइल अटैक का अलर्ट जारी था। मैसेज में लिखा था, ''हवाई शहर पर बैलिस्टिक मिसाइल का खतरा है, तत्काल आश्रय की तलाश करें यह कोई मॉकड्रिल नहीं है।'' इस संदेश को लोगों ने सच्चाई मानने में इसलिए देर नहीं क्योंकि अमेरिका की उत्तर कोरिया से इस समय तनातनी आखिरी चरण की चल रही है। चल रही तनातनी के बीच मिसाइल हमले के अलर्ट को लोगों ने सच समझने में देर नहीं लगाई।

बाद में गवर्नर ने मांगी माफी
इस चेतावनी के जारी होने के 10 मिनट बाद हवाई आपातकालीन प्रबंधन एंजेंसी ने ट्वीट करते हुए लोगों को सूचित किया, “ हवाई पर कोई मिसाइल खतरा नहीं है।” दूसरा आपातकालीन अलर्ट आठ बजकर 45 मिनट पर चलाया गया। राज्य के गवर्नर डेविड ईजे ने भी लोगों से माफी मांगी और कहा कि ये कर्मचारियों की लापरवाही की वजह से अलर्टा फ्लैश हुआ है।

इस अलर्ट क बाद तो लोगों में अफरातफरी का माहौल पैदा हो गया। सभी लोग अपनी जान बचाने के लिए सेफ जगहों की तलाश करने लगे। हालांकि जब उन्हें पता चला कि शहर पर कोई हमला नहीं होने वाला है, तो उन्होंने मीडिया के सामने अपनी -अपनी स्टोरियों को शेयर किया। दहशत और डर के मैसेज आने के बाद लोगों को जब पता चला कि ये संदेश गलत है तो उन्होंने राहत की सांस ली।

क्या था अलर्ट
हवाई के लोगों को मोबाइल पर मेसेज मिला जिसमें लिखा था, 'हवाई में बैलिस्टिक मिसाइल हमले का खतरा। जल्द से जल्द सुरक्षित स्थान पहुंचे। यह अभ्यास नहीं है।' रेडियो और टीवी पर भी यही अलर्ट ब्रॉडकास्ट हुआ। उत्तर कोरिया के मिसाइल हमले की धमकियों के कारण हवाई को संवेदनशील मानते हुए अलर्ट सिस्टम तैयार किया गया था। दिसंबर में अमेरिका ने परमाणु हमले के साइरन की टेस्टिंग भी की थी। ऐसा शीत युद्ध के खत्म होने के बाद पहली बार हुआ था।

हवाई के गवर्नर ने बताया कि स्टेट इमर्जेंसी मैनेजमेंट एजेंसी में शिफ्ट चेंज के दौरान एक प्रक्रिया के तहत सभी सिस्टम को चेक किया जाता है। इसी दौरान किसी कर्मचारी ने गलट बटन दबा दिया था।

Ad Block is Banned