बीएसए जवान की मौत का मामला: 96 घंटे के बाद हुआ राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार

उत्तर प्रदेश के अमेठी में 96 घंटे बाद मंगलवार को बीएसएफ जवान प्रदीप शुक्ला का राजकीय सम्मान के साथ गांव में अंतिम संस्कार किया गया।

By: Abhishek Gupta

Published: 13 Apr 2021, 08:58 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क.

अमेठी. उत्तर प्रदेश के अमेठी में 96 घंटे बाद मंगलवार को बीएसएफ जवान प्रदीप शुक्ला का राजकीय सम्मान के साथ गांव में अंतिम संस्कार किया गया। परिजनों ने जवान को शहीद का दर्जा देने की मांग के साथ अंतिम संस्कार से इंकार किया था। सोमवार रात सेना के अधिकारियों ने शहीद का दर्जा देने का ऐलान किया तब कहीं आज अंतिम संस्कार हुआ।


अमेठी जिले की तिलोई तहसील क्षेत्र के कुटमरा गांव निवासी बीएसएफ जवान प्रदीप शुक्ला की मौत शुक्रवार को बस्तर काकेर जिले के नक्सल प्रभावित इलाका कोयली बेड़ा के कैंप में ड्यूटी के दौरान संदिग्ध हालात में हो गई थी। अधिकारियों का कहना था कि प्रदीप ने खुदकुशी की है। बीएसएफ के सब इंस्पेक्टर विनीत राय की अगुवाई में साथी जवान रविवार की शाम प्रदीप शुक्ला का शव लेकर उनके पैतृक गांव पहुंचे थे। परिवारीजनों ने जवान को शहीद का दर्जा दिए जाने की मांग को लेकर पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया था।

जवान की पत्नी दीपमाला शुक्ला ने बस्तर काकेर और अमेठी जिले के एसपी को पत्र लिखकर पति की हत्या करने का आरोप लगाया। कहा, मेरे पति बैरक में अकेले थे, जिसकी पुष्टि बीएसएफ कमांडेंट ने स्वयं की है। मौके पर तीन खाली गोलियां बंदूक के साथ भी मौके पर मिली, जो निसंदेह विवाद होने का संकेत स्पष्ट कर रहा है, क्योंकि अकेले आदमी एक साथ तीन बुलेट गोली से आत्महत्या का प्रयास कैसे करेगा। बिना जांच ही अधिकारियों ने मामले को कैसे आत्महत्या कह दिया। उन्होंने पत्र में लिखा है कि मेरे पति की हत्या की जांच कराई जाए, जिससे मैं व मेरे बच्चे सम्मान से जी सके। उन्होंने लिखा है कि दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग भी पत्र के माध्यम से की गई।


उधर एसपी ने परिवारीजनों से बातचीत करके उन्हें समझाने का प्रयास किया। देर शाम बीएसएफ के अधिकारियों के जवान को शहीद का दर्जा दिलाए जाने का भरोसा दिया। इस पर परिवारीजन शांत हो गए। एसपी ने बताया कि बीएसएफ के अधिकारियों ने जवान को शहीद का दर्जा दिए जाने और परिवारीजनों को मदद देने का भरोसा दिया है। वहीं आज राजकीय सम्मान के साथ जवान का अंतिम संस्कार किया गया।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned