ओवरलोडेड ट्रकों को पकड़वाना इस पुलिस अधिकारी को पड़ा महंगा, आनन-फानन में हुआ ट्रांसफर

यहां इस बीजेपी विधायक की बात जो नहीं मानता उसका ट्रांसफर कर दिया जाता है...

अमेठी. अमेठी यूपी सरकार भ्रष्टाचार के मुद्दे को लेकर भले ही सरकार बना ली हो लेकिन अब उन्ही के नेता और विधायक भ्र्ष्टाचार को बढ़ावा देने के लिये अधिकारियों पर दबाव बना रहे है। दरसल मामल अमेठी के तिलोई का है जहाँ सी ओ बीनू सिंह को ओवर लोडिंग तीन ट्रकों को पकड़ना पड़ा महंगा। आपको बताते चलें कि रात्रि गश्त पर सीओ बीनू सिंह तिलोई निकली थीं। उसी दरमियान ओवरलोडिंग ट्रको पर सीओ की नजर पड़ गई और ट्रको के खिलाफ मोहनगंज थाने को कार्रवाई करने के लिए सुपुर्द कर दिया। लेकिन वहीं स्थानीय सुनीता सिंह का आरोप है कि ट्रकों को बिना कार्रवाई किये ही छोड़ दिया गया और यहां पर जो भी अधिकारी बीजेपी के विधायक मेंकेश्वर शरण सिंह की बात नहीं मानता उसका ट्रांसफर कर दिया जाता है।

 

 

 

जनता के हित में किया काम

जब इस मामले में सीओ बीनू सिंह से बात की गई तो उनका साफ कहना था कि खराब सड़कों को लेकर कई बार शिकायतें आई थीं और लगातार सड़कों पर गड्ढे होने की वजह से कई बार हादसे हुए हैं। कई लोगों की जान भी गई है। इन शिकायतों को देखते हुए हम लोगों ने ओवर लोडिंग ट्रकों की धर पकड़ के लिए अभियान चलाया। इसी अभियान के तहत बुधवार को भी हमने तीन ट्रकों को पकड़ कर मोहनगंज थाने भेज कर एसओ को कार्रवाई करने का निर्देश दिए थे। उसी समय लॉ एण्ड आर्डर के लिए हमें मुसाफिर खाना के लिए भेज दिया गया था। अब मुझे नहीं मालूम है कि थाना वालों ने ट्रकों के साथ क्या किया। ये तो थाने वालों से पूंछो और जब भी जनता के हित में काम करो, तो कहीं न कहीं सत्ता पक्ष के लोगों का दबाव रहता है।

 

एसपी से नहीं हुई बात

वहीं जब इस मामले में एसपी से बात करने की कोशिश की गई तो उनका फोन पीआरओ विजय कुमार ने उठाया और एसपी से बात करने के लिए कहा गया तो कहा कि थोड़ी देर बाद बात कराता हूं। जब दोबारा फोन कर के बात की गई तो पीआरओ विजय कुमार ने बताया कि शिकायतों की अनदेखी के चलते सीओ का ट्रांसफर किया गया। लेकिन सवाल ये भी खड़ा होता है कि शिकायतों की अनदेखी करने की सजा ट्रांसफर होती है और अगर सीओ के खिलाफ इस तरीके की शिकायत थी तो अमेठी तहसील में उन्हें क्यों ट्रांसफर किया गया।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned