भाजपा सरकर में कांग्रेस को लगा एक और बड़ा झटका, पढ़िए ये खबर

प्रशासन ने 32 सालो से कांग्रेस द्वारा उपयोग किये जा रहे स्थानीय सांसद राहुल गांधी के ऑफिस को खाली करा लिया है।

By: आकांक्षा सिंह

Published: 02 May 2017, 11:20 AM IST

अमेठी। जिले में अब कांग्रेस को एक और बड़ा झटका लगा है। प्रशासन ने 32 सालो से कांग्रेस द्वारा उपयोग किये जा रहे स्थानीय सांसद राहुल गांधी के ऑफिस को खाली करा लिया है। इतना ही नहीं इस अस्पताल परिषर के गेस्ट हॉउस को राजनीतिक रूप में इस्तेमाल करने को लेकर जांच भी शुरू कर दी है, इसमें जहाँ भाजपा कांग्रेस पर अस्पताल के परिषर का निजी उपयोग का ठीकरा फोड़ रही है वही अमेठी के कांग्रेसी इसको स्मृति ईरानी द्वारा बदले की भावना से किया जा रहा काम बता रहे है.|

देखें वीडियो -



अमेठी में राहुल गांधी का ऑफिस और उनके ठहरने का वो स्थान जो कांग्रेस पिछले 32 सालो से उपयोग कर रही थी उसे प्रशासन ने नोटिस देकर खाली करा लिया। दरअसल ये ऑफिस मुंशीगंज के संजय गांधी अस्पताल के गेस्ट हॉउस में था जहां अपने अमेठी दौरे में राहुल गांधी ना सिर्फ प्रवास करते थे बल्कि उनका जनता दरबार भी यहीं लगता था। इस परिषर को 1985 में सरकार द्वारा अस्पताल के नाम आवंटित किया गया था जिसे राहुल गांधी अपने निजी उपयोग में ला रहे थे। लिहाजा इसकी शिकायत भारतीय जनता पार्टी के अमेठी के जिलाध्यक्ष ने प्रशासन से कर दी।

यह भी पढ़ें - yogi-adityanath-cabinet-meeting-gst-bill-tabadala-niti-latest-update-lucknow-up-hindi-news-1567982/">योगी सरकार की पांचवी कैबिनेट बैठक, इन अहम् फैसलों पर लगी मुहर


इस पर उमा शंकर पांडेय ने कहा इसमें बदले की भावना कहां से आ गयी कांग्रेस के लोग तो असंवैधानिक काम खुद कर रहे हैं। जब वो गरीबो के मेडिकल कालेज के लिए जमीन अलर्ट की गयी थी उसमें वो कांग्रेस का कार्यालय चला रहे हैं।

इस शिकायत के बाद जिला प्रशासन हरकत में आया और उसने इस मामले की जांच के आदेश कर दिए। वहीं अमेठी के जिलाधिकारी योगेश कुमार ने कहा कि शिकायत इसमें ये प्राप्त हुयी थी की ये  संजय गांधी हॉस्पिटल है इसमें कोई राजनितिक कार्यालय चल रहा है। चूंकि वो जमीन पूरी तरह से पब्लिक इस्तेमाल के लिये है और इसमें राजनीतिक कार्यालय चलने की परिस्थिति नहीं बनती है। एसडीएम अमेठी को इस आशय के लिए सूचित किए गए है।

इस मामले में नोटिस के बाद बिना बताये कांग्रेस ने चुपके से इस परिषर को खाली कर दिया और अपना ऑफिस गौरीगंज में शिफ्ट कर दिया और चुप्पी साध ली हालाँकि बिना विरोध के भी कांग्रेसी ये कहते नज़र आ रहे है की ये काम स्मृति ईरानी ने बदले की भावना से किया है

जगदीश पीयूष- (वरिष्ठ कांग्रेसी)"अस्पताल का जो गेस्ट हॉउस में राहुल गांधी का आना जाना इसलिए भी जरुरी है की ताकि वो जनता के दुःख दर्द को से रुबरु हो सके और समझ सके की क्षेत्र में कितना काम ये कर रहा है हमारा अस्पताल दूसरे उस पर रोक लगाना उनसे चिढ़ना उसी तरह से है जैसे कोई भीग रहा बन्दर बया के घोसले को उजाड़ दे और स्मृति ईरानी और उनके गुर्गे अमेठी में कुछ कर तो सकते नहीं"

गौरतलब है की 2014 के लोकसभा चुनाव में राहुल गाँधी से चुनाव हारने के बाद केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की अमेठी में सक्रियता कंग्रेसियो के लिए बड़ी मुसीबत बनी हुयी है इससे पहले स्मृति ईरानी के हस्तक्षेप से राहुल गांधी के अमेठी में आठ बड़े ड्रीम प्रोजेक्ट बंद कराये जा चुके है और अमेठी में बंद औद्योगिक इकाई सम्राट साइकिल की जमीन के लिए राजीव गांधी चैरेटिबल ट्रस्ट को भी कटघरे में खड़ा कर दिया गया था ऐसे में अब राहुल गांधी के कार्यालय को भी छीन लेना अमेठी में नेहरू गांधी परिवार के किले को ध्वस्त करने की कवायद के रूप में देखा जा रहा है।
Congress
Show More
आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned