अब आबादी की जमीन पर मिलेगा स्वामित्व, ड्रोन कैमरे से सर्वे शुरू

अमेठी में बढ़ते जमीनी विवाद के बीच राहत भरी खबर सामने आई है। दिल्ली से बाकायदा एक टीम गौरीगंज पहुंची।

By: Abhishek Gupta

Published: 24 Jul 2020, 08:44 PM IST

Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

अमेठी. अमेठी में बढ़ते जमीनी विवाद के बीच राहत भरी खबर सामने आई है। दिल्ली से बाकायदा एक टीम गौरीगंज पहुंची। जो अब यहां ड्रोन कैमरे से एक-एक व्यक्ति के घर और जमीन का सर्वे करेगी। इससे अंदाजा लगा लिया जाएगा कि कौन कितने स्वामित्व का मालिक है। शुक्रवार को दिल्ली से आई टीम गौरीगंज मुख्यालय पर पहुंची। क्षेत्र के दो गांव मोहनपुर और पूरे अवसान में सर्वे किया। जिम्मेदार अधिकारी ने बताया कि खतौनी के ही पैटर्न पर भारत सरकार के निर्देश पर धरौनी बनने का कार्यक्रम शुरू किया गया है। सर्वेक्षण टीम इसके लिए आई हुई है। अभी तक श्रेणी 6 दो में आबादी की जमीन के स्वामित्व का अधिकार नहीं होता था। जिसके लिए गांव में तमाम विवाद होते हैं। अब उनका स्वामित्व का निर्धारण इस भू सर्वेक्षण टीम द्वारा कराया जा रहा है। जिसमें ड्रोन कैमरे से हो रहा है।

आबादी का सीमांकन संभव नहीं था, इसलिए ड्रोन कैमरे से जो ऊपर से सर्वे करके बताएगा कि प्रत्येक व्यक्ति के आवास की स्थित कि वो कितने क्षेत्रफल में रह रहा है ये देखा जाएगा। इसका पूरा सर्वे किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि प्रारूप 5 है उसमे प्रत्येक व्यक्ति का नाम, उसके पिता का नाम, मोबाइल नंबर, कितने क्षेत्रफल में वो बसा है। या कोई सरकारी विद्यालय है, पोल है, पंचायत भवन है टीम द्वारा इसका चिन्हांकित किया जा रहा है। इससे आबादी की भूमि पर स्वामित्व का अधिकार मिलेगा।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned