निशाने पर यूपी की 80 लोकसभा सीटें, 2019 चुनाव का हुआ शंखनाद

नेताओं की धमाकेदार आमदो-रफ से साफ है कि 2019 का शंखनाद हो चुका है।

By: आकांक्षा सिंह

Published: 19 Jul 2018, 12:32 PM IST

अमेठी. नेताओं की धमाकेदार आमदो-रफ से साफ है कि 2019 का शंखनाद हो चुका है। बड़े से लेकर छोटे दलों के निशाने पर यूपी की 80 लोकसभा सीटें हैं। इसके इतर अमेठी में राजनैतिक दलों से अधिक व्याकुलता संघ को है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र में उन्हें मात देनें के लिए संघ जबरदस्त तरीके से कील कांटे दुरुस्त करने में जुट गया है। जिसे देख कहा जा सकता है कि अमेठी में 2019 का लोकसभा चुनाव गांधी-नेहरू परिवार बनाम संघ के मध्य होगा।


अब तक मिली जानकारी के मुताबिक अमेठी संसदीय क्षेत्र को संघ ने तीन जिलों और 300 से ज्यादा मंडलों में बांटा है। अमेठी-रायबरेली के साथ औद्योगिक क्षेत्र में डेवलेप जगदीशपुर को जिले का नाम दिया गया है। ऐसे में अमेठी को तीन जिलों में विभाजित कर आधे से अधिक क्षेत्र को काशी तो शेष क्षेत्र को अवध का नाम दिया गया है।

इसी क्रम में आपको बता दें कि अमेठी क्षेत्र में संघ ने काफी मेहनत कर यहां 45 मंडल में 145 शाखाएं खोली हैं। वहीं जगदीशपुर में संघ ने अब तक 52 मंडल में 90 शाखाएं तो सलोन में ये संख्या 20 के आंकड़े में संचालित है। यही नही बल्कि संघ अमेठी में हर साल प्राथमिक शिक्षा वर्ग का आयोजन होता है, जिसमें नए स्वयं सेवकों को संघ से जोड़ा जाता है और उन्हें 7 दिन का प्रशिक्षण दिया जाता है। इसके अलावा संघ अपने स्वयंसेवकों के लिए सप्ताह में मंडली कार्यक्रम व माह में मिलन कार्यक्रम आयोजित कराता है। जिसमें संघ के बड़े पदाधिकारी भी शामिल होते हैं। एकाएक हाल के कुछ सालो में संघ की सक्रियता से कांग्रेस पार्टी सकते में है और हालिया चुनाव में वो संघ को मात देने के लिए सेवादल को मजबूत करने में जुटी है। लेकिन कई माना में संघ कांग्रेस के सेवादल से न सिर्फ आगे बल्कि सशक्त है। ये सच्चाई है और कड़वी है, जो कांग्रेस को पच नही पाएगी।

आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned