कुवैत में फंसा अमेठी का युवक, वीडियो जारी कर सीएम व पीएम से मांगी मदद, कहा- मुझे देश वापस बुला लीजिए

माता-पिता का रो-रोकर हो गया बुरा हाल.

By: Abhishek Gupta

Published: 01 Jul 2020, 10:53 PM IST

Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

अमेठी. जालसाजों के चुंगल में आकर अमेठी का निवासी अनीस कुवैत में जाकर फंस गया है। वह वहां कुछ धन कमाने गया था, लेकिन उसे नहीं पता था कि उसकी हालत जेल के कैदियों जैसी हो जाएगी। तंग आकर उसने अब एक वीडियो जारी किया है जिसमें वह तनख्वाह व खाना न दिए जाने व शारीरिक शोषण की बात कर रहा है। पीड़ित ने वीडियो के जरिए प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री और अमेठी सांसद से मार्मिक अपील करते हुए उनसे मदद की गुहार लगाई है।

जिले के फुसरतगंज थाना क्षेत्र के कस्बा निवासी मोहम्मद अनीस ड्राइवर के वीजे पर 18 जनवरी को कुवैत गया था। उसे एजेंटों ने ये वीजा दिया। लेकिन ड्राइवरी छोड़ कुवैत पहुंचकर उससे घर की साफ सफाई का काम लिया जाने लगा। आखिर में 6 महीनों से प्रताड़ना बर्दाशत करने के बाद अनीस ने एक वीडियो जारी किया है। जारी वीडियो में अनीस कह रहा है कि 18 जनवरी को कुवैत पहुंचा, एजेंटो ने फंसा दिया। मुझे न खाना दिया जाता है, न तनख्वाह दी जाती है। मैं यहां मर जाऊंगा। मुझे पुलिस वाले इतना मारते हैं, इतना मारते हैं कि जीने का दिल नहीं करता। लेकिन अभी मैं पिता बना हूं। मैंने अभी अपने लड़के की शक्ल नही देखा हूं। मैं अपने भारत वापस आना चाहता हूं, मुझे अपना हिंदुस्तान बहुत प्यारा है।

प्लीज मोदी जी, प्लीज योगी जी, प्लीज स्मृति जी, मदद करिए-

वह आगे कहता है कि हमारे प्रधानमंत्री मोदी, मुख्यमंत्री योगी गरीबों की बहुत मदद करते हैं। सांसद स्मृति ईरानी से अपील है कि वह हमें यहां से निकालें। मैनें कम्प्लेंट भी की है, पर मेरी सुनवाई नहीं हो रही। मेरी कफील बोलती है कि तुम फांसी लगाकर मर जाओ, तुम्हें मैं कचरे के डिब्बे में फेकवा दूंगी। लेकिन तुम्हे इंडिया नहीं जाने दूंगी। इंडिया की सरकार मेरा कुछ नहीं कर पाएगी। प्लीज मोदी जी, प्लीज योगी जी, प्लीज स्मृति जी हमारी मदद करिए। हमारे पापा से संपर्क किया जाए, हमारे पापा बहुत परेशान हैं। हर जगह चक्कर लगा रहे हैं।

परिवार ने जाहिर की चिंता-

वही पीड़ित के पिता मोहम्मद अमीन ने बताया कि उनके बेटे की मुम्बई से फ्लाइट थी। 18 जनवरी को ड्यूटी पर चढ़ा तब से उसे प्रताड़ित किया जा रहा है। उससे चौबीस घंटे काम लिया जा रहा है। तनख्वाह नहीं दी जा रही, एक-एक हफ्ते खाना नहीं दिया जा रहा। मेरा लड़का मरने की कगार पर है, आधा हो गया है वो। वहीं मां रोते हुए बोली कि सरकार से हम यही चाहते हैं कि लड़का हमारा वापस आ जाए। पीड़ित की पत्नी सफीना बानो बताती हैं कि उसके एक चार साल की आरीफा है, और गोद में एक बच्चा है जो अभी एक माह का हुआ है। पति अनीस से रोज बात हो रही। बस यही कह रहे हमें बुलवा लो। ये लोग मार डालेंगे।

pm modi Smriti Irani
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned