मोहम्मद शमी का बड़ा खुलासा: तीन बार किया था सुसाइड करने का प्रयास, लेकिन इस वजह से बच गई जान

Highlights

- लॉकडाउन के दौरान अपने पैतृक गांव में समय बिता रहे मोहम्मद शमी ने किए अहम खुलासे

- टीम इंडिया के उपकप्तान से बातचीत के दौरान खोले अपने जीवन के निजी राज

- बोले- परिवार वाले नहीं होते तो शायद आज वह जिंदा न होते

By: lokesh verma

Published: 04 May 2020, 01:53 PM IST

अमरोहा. टीम इंडिया (Team India) के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) इन दिनों अपने घर में रहकर भारतीय टीम केे अन्य क्रिकेटरों के साथ सोशल मीडिया प्लेटफार्म इंस्टाग्राम पर लाइव चैट के जरिये सक्रिय हैं। हाल ही में शमी ने भारतीय टीम के उपकप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) के साथ बातचीत में अपने जीवन के अहम खुलासे किए हैं। इस दौरान मोहम्मद शमी ने खुलासा करते हुए बताया कि तीन बार उनके जीवन में ऐसे पल आए जब वह बहुत ज्यादा निराश हो गए थे और सुसाइड करना चाहते थे। उन्होंने बताया कि 2015 विश्व कप (World Cup) के दौरान वह चोटिल हो गए तो ऐसा लगा कि सबकुछ खत्म हो गया। इसलिए वह अपनी जान देना चाहते थे।।

यह भी पढ़ें- क्वारंटीन सेंटर में भर्ती संदिग्ध मरीजों की अजब-गजब डिमांड, किसी को चाहिए कुरकुरे-चिप्स तो किसी को कोल्डड्रिंक

दरअसल, कोरोना वायरस के कारण देशभर में लागू लॉकडाउन (Lockdown) के चलते टीम इंडिया के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी इन दिनों बेशक अपने पैतृक गांव सहसपुर अलीनगर स्थित घर में कैद हैं, लेकिन इसके बावजूद वह सुर्खियों में हैैं। शमी आए दिन इंस्टाग्राम पर अपने साथी क्रिकेटरों के साथ लाइव चैट करके अपने जीवन के उन पलों को साझा कर रहे हैं, जिन्हें उनके सिवाय कोई नहीं जानता है। बता दें कि मोहम्मद शमी अभी तक भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ी सुरेश रैना, युजवेंद्र चहल, इरफान पठान, मनोज तिवारी और रोहित शर्मा से लाइव बातचीत कर चुके हैं। हाल ही में उन्हाेंने टीम इंडिया के उपकप्तान रोहित शर्मा से बात की है, जिसमें उन्होंने अपने जीवन के कई अहम खुलासे किए हैं।

तीन बार आया सुसाइड करने का ख्याल

इस दौरान मोहम्मद शमी ने बताया कि आज मैं अगर क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में वापसी कर सका हूं तो उसके पीछेे मेरा परिवार है। उन्होंने कहा कि अगर मेरे परिवार ने मेरा साथ नहीं दिया होता तो मैं कब का क्रिकेट को अलविदा कह चुका होता। उन्होंने बताया कि मेरे जीवन में एक समय ऐसा भी आया जब मैंने तीन बार सुसाइड करने केे बारे में सोचा। उस दौरान मैं बेहद निराश था और मेरे परिवार का कोई न कोई सदस्य मेरे साथ बैठा रहता था। इस तरह 24 घंटे मुझपर नजर रखी जाती थी। मैं 24वीं मंजिल पर रहता था और परिवार वालों को डर लगता था कि कही मैं ऊपर से कूद न जाऊं।

'परिवार वालों ने ही सिखाया, समस्या है तो उसका हल भी है'

शमी ने रोहित शर्मा से बातचत के दौरान बताया कि उस वक्त मेरा परिवार मेरे साथ था, यही मेरेे लिए सबसे बड़ी शक्ति थी। परिवार वालों ने ही मुझे सिखाया कि समस्या है तो उसका हल भी है। आप सिर्फ अपने खेल पर ध्यान दें, आगे जो भी होगा अच्छा होगा। परिवार वालों से प्रेरणा लेेते हुए मैंने सबकुछ पीछे छोड़ दिया और नेट्स पर लगातार अभ्यास शुरू किया। मैं अधिक से अधिक दौड़ना और व्यायाम करता था।

यह भी पढ़ें- केजरीवाल सरकार की बड़ी लापरवाही, कोरोना पॉजिटिव अधिकारी को नहीं दी जानकारी, खुद फोन कर यूपी में हुए भर्ती

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned