26 ओवरलोड और अवैध संचालित वाहनों के खिलाफ की कार्रवाई, 5 लाख 86 हजार का लगा जुर्माना

26 ओवरलोड और अवैध संचालित वाहनों के खिलाफ की कार्रवाई, 5 लाख 86 हजार का लगा जुर्माना

By: shivmangal singh

Published: 19 Jan 2019, 08:03 AM IST

20 वाहनों के खिलाफ 3 लाख 86 हजार का कटा चालान, 6 ओवरलोड हाईवा पर 2 लाख राजस्व का ठोका जुर्माना
अनूपपुर। जिले में ओवरलोड वाहनों के परिचालन तथा लगातार मिल रही शिकायतों पर जिला परिवहन विभाग अनूपपुर ने कलेक्टर के निर्देशन में पिछले एक सप्ताह में अलग अलग स्थानों पर कार्रवाई कर २६ वाहनों को जब्त करने की कार्रवाई की है। इनमें १५ वाहन अवैध तरीके से संचालित होना पाया गया, जबकि ११ वाहनों के खिलाफ ओवरलोडिंग का मामला दर्ज किया है। इस कार्रवाई में अबतक २० वाहनों से आरटीओ ने ३ लाख ८६ हजार ४३५ रूपए का चालान काटा है। जबकि शेष ६ अन्य वाहनों के खिलाफ लगभग २ लाख का जुर्माना ठोका है। आरटीओ लालताराम सोनवानी का कहना है कि अगर छह अन्य हाईवा वाहन(राखड़ भरी)से २ लाख का राजस्व आता है तो इस कार्रवाई में लगभग शासन को छह लाख की राशि प्राप्ति होगी। आरटीओ कार्यालय के अनुसार कदमटोला-परासी मार्ग के पास इलाहाबाद-चिरमिरी बस हादसे के बाद विभाग द्वारा लगातार कार्रवाई करते हुए ७ जनवरी को राजेन्दग्राम थाना में ३ ओवरलोड वाहनो को जब्त करने की कार्रवाई की। भालूमाड़ा में ८ जनवरी को कार्रवाई करते हुए ४ वाहनों को जब्त किया। १२ जनवरी को कोतमा में १ ओवरलोड वाहन जब्त किए गए। १२ जनवरी को ही बिजुरी में १ ओवरलोड वाहन, तथा १५-१६ जनवरी को अनूपपुर में कार्रवाई करते हुए १२ वाहनों को जब्त करने की कार्रवाई की। जबकि चचाई थाना में ५ ओवरलोड वाहनों को जब्त कर थाना में खड़ा किया गया है। विदित हो कि ओवरलोड वाहनों में अधिकांश हाईवा(राखड़ भरी कैप्सूल) वाहनें शामिल हैं, जो पावर प्लांट जैतहरी से निकलने वाले राखड़ को क्षमता से अधिक वाहनों पर लाद परिवहन करते हैं। इससे पूर्व भी आधा दर्जन हाईवा के खिलाफ ओवरलोड के मामले में लाखों का जुर्माना ठोका गया था।
वर्सन:
अबतक २० भारी वाहनों के खिलाफ चालानी कार्रवाई करते हुए समन शुल्क वसूल किया गया है। शेष ६ वाहनों के खिलाफ भी लगभग २ लाख की राजस्व वसूली की प्रक्रिया पूरी की गई है।
लालताराम सोनवानी, आरटीओ अनूपपुर।

shivmangal singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned