आजादी बाद भी 5 किलोमीटर पक्की सडक़ की आस, कीचडय़ुक्त सडक़ ग्रामीणों की मुसीबत

ग्राम पंचायत द्वारा भेजे गए प्रस्ताव के बाद भी प्रशासन ने आजतक नहीं ली सुध

By: Rajan Kumar Gupta

Published: 26 Jun 2020, 06:03 AM IST

अनूपपुर। अनूपपुर जिला मुख्यालय से मात्र 6 किलोमीटर दूर ग्राम पंचायत दुलहरा का ग्राम सकरिया आजादी के बाद से पक्की सडक़ की आस लिए बैठा है। ग्राम पंचायत द्वारा भेजे गए ५ किलोमीटर लम्बी सडक़ के निर्माण के कई प्रस्तावों के बाद जिला प्रशासन बना सकी। जिसके कारण दशकों से ग्राम सकरिया के लोग नारकीय जीवन जीने को विवश हैं। इसे विडंबना कहें कि जिला मुख्यालय से लगे गांव तक जाने के लिए सडक़ तक नहीं है। जबकि जनपद पंचायत जैतहरी अंतर्गत आने वाला ग्राम पंचायत दुलहरा के सकरिया गांव में लगभग 200 घरों की आबादी है। इन ग्रामवासियों को अपने गांव से बाहर जाने के लिए आजतक सडक़ नहीं बनी है। आज भी ग्रामीण पुराने कच्चे मार्ग से ही आवागमन करते हैं। गांव के बच्चे, बुजुर्ग, महिला, पुरुष को यदि गांव से बाहर स्कूल, अस्पताल, जिला मुख्यालय या कहीं भी जाना है तो इन्हें गांव की कच्ची सडक़ से गुजरना होता है। मौसम के अन्य महीने तो लोग किसी प्रकार से निस्तार और आवाजाही कर लेते हैं। लेकिन बारिश के मौसम में इस कच्चे रास्ते से निकलना दुश्कर साबित होता है। 5 किलोमीटर लम्बा कच्चा मार्ग जगह-जगह दलदलनुमा जमे पानी के साथ कीचडय़ुक्त बना रहता है। जिसपर पैदल चलना भी मुश्किल होता है।
ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम सकरिया से मुख्य मार्ग चंदास नदी मोहार टोला तक की दूरी लगभग 5 किलोमीटर है। इसके बाद सीमेंट की सडक़ और फिर मुख्य मार्ग है। इस 5 किलोमीटर सडक़ का निर्माण आज तक नहीं होने से ग्रामवासियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। बारिश में मार्ग की हालत इतनी खराब हो जाती है कि लोग अपना जरूरी काम करने के लिए भी गांव से बाहर नहीं जा पाते।
बॉक्स: प्रस्तावों पर प्रशासन ने नहीं ली सुध
ग्राम सकरिया निवासी छात्र शिव चंद प्रजापति अनूपपुर तुलसी महाविद्यालय का छात्र है ने बताया कि ग्राम पंचायत द्वारा सडक़ को लेकर कई बार प्रस्ताव जिला पंचायत, जनपद पंचायत कार्यालय भेजा। लेकिन इसके बाद आजतक निर्माण सम्बंधी प्रस्ताव नहीं आए। इसमें कुछ स्थानीय राजनीति दबाव भी हावी रही, जो टेंडर लेकर निर्माण की बात कह इसके निर्माण कराने में बाधा बने। जिसके कारण सडक़ आजतक नहीं बन सकी।
वर्सन:
सडक़ की जरूरत के अनुसार पहुंच मार्ग का काम कराया गया है। सकरिया से मोहारटोला तक के लिए भी सडक़ निर्माण का प्रस्ताव कई बार भेजा जा चुका है, लेकिन अभी तक स्वीकृति नहीं मिल पाई है।
भोला सिंह, सचिव, ग्राम पंचायत दुलहरा।
-----
इस सम्बंध में ग्राम पंचायत से जानकारी लेकर ग्रामीणों की सुविधा के लिए सडक़ का निर्माण कराया जाएगा।
शक्ति कुंज, सीईओ जैतहरी अनूपपुर।
-------------------------------------

Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned