गलत बैंकिंग कोड से अटकी किसान पीएम सम्मान निधि की राशि, भटक रहे किसान

20 से अधिक पटवारियों ने भर दी गलत आईएफएससी कोर्ड, हजारो किसानों के खातों में नहीं आई राशि

By: Rajan Kumar Gupta

Published: 27 Nov 2019, 08:26 PM IST

अनूपपुर। किसानों की आर्थिक मदद के उद्देश्य से केन्द्र सरकार द्वारा संचालित पीएम किसान सम्मान निधि योजना पिछले ९ माह बाद भी अनूपपुर जिले में वास्तविकता की धरातल पर नहीं उतर सका है। पटवारियों की लापरवाही के कारण फरवरी से संचालित पीएम सम्मान निधि योजना में चयनित आधे से अधिक किसान इस योजना से अब भी वंचित हैं। हालात यह है योजना के तहत चयनित ९८६२७ किसानों की सूची में आधे किसानों के खाते में एक भी किस्त की राशि नहीं पहुंच सकी है, जबकि प्रावधानों के अनुसार उन्हें दूसरा किस्त मिलना चाहिए था। वहीं शासन ने किसानों के तीसरी किस्त के सम्बंध में पूरी जानकारी के साथ आधार लिंक करने की ३० नवम्बर अंतिम तिथि की घोषणा कर दी है। जिसके कारण किसान अपनी सम्मान राशि पाने जिले के तहसील कार्यालयों में चक्कर काट रहे हैं। जिसके कारण अब किसानों में यह संशय बन गया है कि उन्हें शासकीय योजना का लाभ नहीं मिल पाएगा। विभागीय जानकारी के अनुसार पटवारियों द्वारा बनाई गई सूची और दिए गए स्थानीय बैंकिंग जानकारियों में बैंक की आईएफएससी कोर्ड ही गलत अंक उपर भेज दी गई है। जिसके कारण शासन द्वारा डाली जा रही राशियां सम्बंधित बैंक खातों में नहीं पहुंच रही है और सम्बंधित खाताधारको के खातें राशियां नहीं आ रही है। विभाग की जानकारी के अनुसार अनूपपुर जिले के चारो विकासखंड में लगभग २० से अधिक पटवारियों ने अपने क्षेत्र के बैंक की गलत जानकारी शासन को भेजी है। इनमें किसी किसी गांव में किसानों की संख्या १५०-२५० के बीच हैं, जो अपनी राशियां पाने के इंतजार में बैंक शाखाओं की ओर देख रहे हैं।
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत जिले के किसानों को प्रत्येक चार माह पर एक किस्त २००० रूपए दिया जाना है। इस प्रकार सालभर में तीन किस्तों में किसानों के खातें में ६ हजार की राशि पीएम सम्मान निधि योजना के तहत दिए जाएंगे। इस योजना की पूर्ति में जिले के चारो विकासखंड अनूपपुर, कोतमा, जैतहरी और पुष्पराजगढ़ के ६०३ गांवों से कुल १९३६५३ किसानों का खाता खोला गया था। जिसमें १४८५१५ खातों को पोर्टल पर अपलोड किया गया। इनमें कुल १७९६६८ परिवार शामिल हुई। जिनमें जांच पड़ताल के बाद कुल ९८६२७ परिवार को पोर्टल पर अपलोड किया गया है। लेकिन में २०-२५ पटवारियों की लापवाही के कारण लगभग २५-३० हजार परिवारों के खातें बैंकों में केन्द्र सरकार की योजना से नहीं जुड़ सका है।
बॉक्स: गलत कोडिंग सुधार की चेतावनी, नहीं तो रूकेगी वेतनवृद्धि
अधीक्षक भू-अभिलेख कार्यालय अधिकारी शशिशंकर मिश्रा ने बताया कि वर्तमान में अनूपपुर में ५७ हल्का के २२ पटवारी, कोतमा के ७० हल्का के ४९ पटवारी, जैतहरी के ४३ हल्का के १६ पटवारी तथा पुष्पराजगढ़ के १२० हल्का के ८३ पटवारियों में लगभग २०-२५ पटवारियों ने बैंक की आईएफएससी कोर्ड की गलत जानकारी दी है। जबकि सेंट्रल बैंक में हाल के दिनों में हुए कोड के बदलाव के कारण अनेक स्थानों पर किसानों के खातें में योजना की राशि नहीं पहुंची है। इसके लिए कमिश्नर शहडोल ने चेतावनी दी है कि जल्द ही त्रुटियों को सुधार कर खातों से अपडेशन कराएं, अन्यथा लापरवाही पटवारियों के वेतनवृद्धि को रोक दी जाए। कमिश्नर ने स्पष्ट कहा कि निलम्बन नहीं किया जाएगा। वहीं विभाग भी सम्बंधित पटवारियों के नाम नोटिस पत्र तैयार करने कार्रवाई आरम्भ कर दी है।
बॉक्स: कहां कितने
विकासखंड कुल खाता कुल अपलोडखाता कुल अपलोड परिवार कुल अपलोड मान्य परिवार
अनूपपुर ४८१०२ ३५१३८ ३३८७६ १६५९३
जैतहरी ३१२१९ २११६२ २७०५८ १६१४४
कोतमा ५१७९६ ३०९८२ ३९४४३ २०३०८
पुष्पराजगढ़ ६२५३२ ६१२३३ ७९२९१ ४५५८२
वर्सन:
पटवारियों द्वारा बैंक की आईएफएससी कोड की गलत अकंन जानकारी प्रेषित की गई है। जिसके कारण किसानों के खाते में राशियां नहीं पहुंच सकी है। इसके लिए सभी पटवारियों को सुधार निर्देश दिए गए हैं। नहीं सुधार कार्य करने पर कार्रवाई की जाएगी।
एसएस मिश्रा, अधीक्षक भू-अभिलेख कार्यालय अनूपपुर।

Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned