ओवरब्रिज निर्माण कार्य आरम्भ नहीं होने से नाराज पूर्व विधायक अनिश्चितकालीन उपवास पर बैठे

विभाग ने पिलर निर्माण के लिए किया चिह्नांकन, नहीं हुआ काम आरम्भ

By: Rajan Kumar Gupta

Published: 14 Sep 2021, 11:41 AM IST

अनूपपुर। अनूपपुर रेलवे फाटक पर प्रस्तावित ओवरब्रिज निर्माण में कार्यादेश जारी होने के बाद भी निर्माण कार्य आरम्भ नहीं होने से नाराज अनूपपुर पूर्व विधायक रामलाल रौतेल १३ सितम्बर को अपने पूर्व प्रस्तावित अनिश्चितकालीन उपवास पर बैठ गए हैं। जहां इंदिरा तिराहा पर धरना प्रदर्शन करते हुए प्रशासन और विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए अब तक कार्य आरम्भ नहीं होने की बात कही है। साथ ही कहा इस निर्माण के लिए केन्द्र और राज्य सरकार दोषी नहीं है। उन्होंने कहा सरकार ने २७ सितम्बर २०१९ को तकनीकि स्वीकृति प्रदान करते हुए १४ दिसम्बर २०१६ में ही प्रशासकीय स्वीकृति भी प्रदान कर दी थी। यहां तक कि ८ मई २०१७ को कार्यादेश जारी कर दिया था। लेकिन विभागीय लापरवाही के कारण स्वीकृत ओवरब्रिज का निर्माण आज तक नहीं आरम्भ हो सका, इसका जल्द ही निर्माण कार्य कराया जाए। पूर्व विधायक ने कहा सत्ता पक्ष या विपक्ष की बात नहीं, जनहित का मुद्दा है। रेलवे फाटक के कारण रोजाना हजारों वाहनों को घंटों आवाजाही के लिए इंतजार करना पड़ता है। शहर का विकास रेलवे लाइन के कारण दो हिस्सों में बंटा हुआ है। इससे अनूपपुर का एकमुश्त विकास कभी सम्भव नहीं पाएगा। इसे देखते हुए मुख्यमंत्री ने ६ अगस्त २०१६ को आमसभा में ब्रिज निर्माण की घोषणा की थी। जिसमें सारी प्रक्रियाओं के बाद वर्ष २०१७ में भूमिपूजन भी किया गया। यहां तक वर्ष २०२० में मुख्यमंत्री ने खुद ही ओवरब्रिज निर्माण की आधारशिला रखी। जबकि इससे पूर्व इससे प्रभावित परिवारों को करोड़ों रूपए का मुआवजा भी वितरित कराया जा चुका है। लेकिन इसके बाद भी विभाग की उदासीनता बनी हुई है। पूर्व विधायक ने कहा-जब तक निर्माण कार्य आरम्भ नहीं होंगे अनिश्चितकालीन उपवास जारी रहेगा। इस दौरान अनेक वक्ताओं ने भी रेलवे ओवरब्रिज निर्माण नहीं होने से परेशानियों को सांझा करते हुए इसके जल्द निर्माण कार्य आरम्भ की बात कही। विदित हो कि इससे पूर्व ३ सितम्बर को पूर्व विधायक अनूपपुर रामलाल रौतेल ने मुख्यमंत्री, जिला प्रभारी मंत्री और कलेक्टर को पत्र लिखते हुए ओवरब्रिज निर्माण की मांग की थी, साथ ही चेतावनी दी थी कि अगर जल्द निर्माण कार्य आरम्भ नहीं हुआ तो वे १३ सितम्बर से अनिश्चितकालीन उपवार पर बैठ जाएंगे।
बॉक्स: पुल निगम ने पिलर के लिए लगाया था निशान
पूर्व विधायक की चेतावनी के बाद पुल निगम शहडोल की टीम ने हाल के दिनों में रेलवे फाटक क्षेत्र का निरीक्षण करते हुए पिलर खड़े किए जाने स्थल का चिह्नांकन कर निशान लगाए थे। जिसमें अधिकारियों का कहना था कि अब पुल का निर्माण कार्य आरम्भ हो चुका है, जल्द ही मशीनों से खुदाई की जाएगी।
बॉक्स: क्या है ओवरब्रिज का निर्माण
१२.०१ करोड़ की लागत से १२-१२ मीटर चौड़ाई और ४६२.४४ मीटर लम्बी पुल होगी। पटरियों के उपर ५७ मीटर लम्बी स्पॉन और ब्रिज में पिलर और आड़ीबॉल का भी उपयोग करते हुए १० पिलर खड़े किए जाएंगे। दोनों छोर पर ५०-५० मीटर लम्बी बीबीसी और ३-३ मीटर की चौड़ी सर्विस रोड प्रस्तावित है।
--------------------------------------------

Show More
Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned