पुरातत्व: बचपन में मवेशी चराते मिले थे सिक्के, पुरातत्व विभाग करेगा पड़ताल

नायब तहसीलदार ने किया पुरातात्विक सिक्कों के स्थल का निरीक्षण

By: Rajan Kumar Gupta

Published: 10 Jun 2021, 11:46 AM IST

अनूपपुर। अनूपपुर तहसील अंतर्गत ग्राम पंचायत जमड़ी के जुड़वा पानी गांव निवासी शंभू सिंह पिता सरगीफुल सिंह गौड़ को बचपन में कनेरी गढ़ नामक पहाड़ी में मवेशी चराते समय 70-80 नग सिक्के मिले थे। जिसे उन्होंने घर के पास तेंदू के पेड़ के खोल में डालकर छिपा दिया था। इसकी जानकारी मिलने जिला पुरातत्व संघ अनूपपुर के सदस्य शशिधर अग्रवाल, हरि शंकर वर्मा ने स्थल का निरीक्षण कर कलेक्टर अनूपपुर को जांच कर पुरातात्विक सिक्कों को पेड़ से निकलवाने एवं उसके पहचान कराने के लिए पत्र लिखा था। पत्र पर संज्ञान लेते हुए कलेक्टर के निर्देश पर नायब तहसीलदार अनूपपुर नीलेश सिंह धुर्वे ने ९ जून बुधवार की सुबह ग्राम पंचायत जमुडी सरपंच भद्दू सिंह, हल्का पटवारी पुष्पांजलि सोनी, जिला पुरातत्व संघ अनूपपुर सदस्य शशिधर अग्रवाल, मदन सिंह, रामपसाद सिंह, सहित अन्य एग्रामीणों के साथ स्थल पर पहुंचें। जहां चमरू सिंह पिता स्व. फूलसिंह निवासी ग्राम डिड़वापानी द्वारा 30-35 वर्ष पूर्व तेंदू के पेड़ में डाले गए पुरातात्विक महत्व के सिक्कों के स्थल का निरीक्षण कर मौका पंचनामा एवं साक्ष्यों के कथन लिखित में अधिकारी को सौंपा। तहसीलदार नीलेश सिंह ने कलेक्टर को जानकारी दी। जिसपर कलेक्टर द्वारा पुरातत्व विभाग को पत्र लिख कर पेड़ के अंदर रखें पुरातात्विक महत्व के सिक्कों की खोजबीन के लिए पत्र लिखे जाने की बात कही है। बताया जाता है कि सिक्कों की जांच में काल एवं महत्सव की जानकारी मिल सकेगी।
--------------------------------------------------------------

Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned