10 हजार प्रोत्साहन राशि दिलाने आशा सहयोगिनी कार्यकर्ता संगठन ने सौंपा ज्ञापन

तीन सूत्री मांगों को लेकर शासकीय कर्मचारी की मान्यता दिलाने की अपील

By: Rajan Kumar Gupta

Published: 21 May 2020, 06:02 AM IST

अनूपपुर। कोरोना संक्रमण के इस जंग में डटकर खड़ी आशा सहयोगी एवं आशा कार्यकर्ताओं ने अपनी तीन सूत्री मांगों को लेकर २० मई की दोपहर मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। जिसमें भारतीय आशा सहयोगिनी एवं आशा कार्यकर्ताओं की मांगों को पूरा करने की मांग की गई। संघ के सदस्यों द्वारा सौंपे गए ज्ञापन में बताया है कि कोरोना वायरस के इस संकटकाल में आशा सहयोगी और आशा कार्यकर्ता डटकर खड़ी है। आशा सहयोगी एवं आशा कार्यकर्ता जमीनी स्तर पर कोरोना सर्वेक्षण करना, सम्भावित चिह्नांकन कर परीक्षण के लिए अस्पताल भेजना व प्रतिवेदन तैयार करना, सूचना प्रदान करना, स्वास्थ्य सेवा प्रदान करना, शासन के दिशा निर्देशों का पालन करवाना, लोगों केा जागरूक करना और क्वारंटीन के लिए रखे लोगों के सम्बंध में प्रतिदिन फॉलोअप करना जैसी जोखिम भरी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी कोरोना महामारी की परिस्थितियों में बगैर किसी सुरक्षा संसाधन के निर्वहन कर रही है। बावजूद आशा सहयोगिनी और आशा कार्यकर्ताओं को प्रदेश सरकार द्वारा दी जाने वाली प्रोत्साहन राशि नहीं उपलब्ध कराई जा रही है। संघ सदस्य सम्पत्तिया राठौर ने बताया कि हम अपनी मुख्य तीन मांगों में कोविद १९ कार्य के दौरान आशा सहयोगी एवं आशा कार्यकर्ताओं को दी जाने वाली १० हजार रूपए की अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि से वंचित रखा गया है। आशा सहयोगिनी और आशा कार्यकर्ताओं को प्रदान की जाए। आशा सहयोगी एवं आशा कार्यकर्ताओं केा शासकीय कर्मचारी मान्य किया जाए, और आशा सहयागी को १५ हजार एवं आशा कार्यकर्ता को १० हजार रूपए प्रतिमाह फिक्स मानदेय दिया जाए की बातों को शामिल किया है।
------------------------------------------------------

Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned