धोखाधड़ी करने वाले आरोपी की जमानत याचिका निरस्त

पांच वर्ष में दोगुना एवं सात वर्ष में तिगुना राशि वापसी का लालच देकर कई करोड़ रूपए ऐंठकर हो गए थे नदारद

By: Rajan Kumar Gupta

Published: 16 Sep 2021, 12:15 AM IST

अनूपपुर। चिटफंड कंपनी की आड़ में दोहरे लाभ का लालच देकर लोगों से धोखाधड़ी कर करोड़ों रूपए एठ कर भागने के मामले में न्यायाधीश राजेश कुमार अग्रवाल ने विशेष प्रकरण पुलिस थाना कोतवाली अनूपपुर के अपराध में आरोपी त्रिवेणी प्रजापति निवासी ग्राम पयारी नम्बर 1 भालूमाडा़ की ओर से प्रस्तुत तृतीय जमानत आवेदन को निरस्त कर दिया है। आरोपी द्वारा प्रस्तुत जमानत आवेदन का विरोध करते हुए मामले में जिला अभियोजन अधिकारी रामनरेश गिरि द्वारा शासन की ओर से अपना पक्ष रखा। अभियोजन मीडिया प्रभारी राकेश कुमार पांडेय ने बताया कि पुलिस डायरी के अनुसार आरबीएन इन्फ्रेक्सटेक्चर लिमिटेड कंपनी मुख्यालय 402 नंदनी अपार्टमेंट माल रोड मुरार ग्वालियर की शाखा अनूपपुर में वर्ष 2011से 2016 तक संचालित थी। जिसमें कंपनी के आरोपी पदाधिकारीगणों द्वारा फर्जी एवं कूट रचित तरीके से कंपनी की पॉलिस रसीद, पंपलेट छपवाकर स्थानीय लोगों को एजेंट बनाकर हितग्राहियों को पांच वर्ष में दोगुना एवं सात वर्ष में तिगुना राशि वापसी का लालच देकर कई करोड़ रूपए ऐंठकर नदारद हो गए थे। आरोपी त्रिवेणी प्रजापति इस प्रकरण में सह अभियुक्त है। पूर्व में आरोपी के द्वारा उच्च न्यायालय में प्रस्तुत जमानत आवेदन गुण-दोषों के आधार पर निरस्त हो चुके हैं। उभयपक्षों के तर्को को सुनने के बाद न्यायालय ने जिला अभियेाजन अधिकारी के कथनों से सहमत होते हुए आरोपी की जमानत याचिका निरस्त कर दी।
----------------------------------------------

Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned