जिले की सीमा तक पहुंचा बर्ड फ्लू, डिंडौरी और मंडला में कौओं की मौत

तोता सैम्पल की रिपोर्ट आई निगेटिव, विभागीय अधिकारियों ने ली राहत की सांस

By: Rajan Kumar Gupta

Published: 09 Jan 2021, 11:38 AM IST

अनूपपुर। जिला मुख्यालय से पांच किलोमीटर दूर गुरूवार की सुबह बैैरीबांध में मृतावस्था में मिले एक तोता के शव के बाद बर्ड फ्लू की आशंका से फिलहाल राहत मिल गई है। भोपाल भेजे गए सैम्पल में तोता की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। जिसमें तोता के पंख के नीचे लगे चोट से मौत के कारण स्पष्ट हुए हैं। उपसंचालक पशुपालन विभाग डॉ. वीपीएस चौहान ने बताया कि खतरे की कोई बात नहीं है। जांच रिपोर्ट निगेटिव आया है। लेकिन विभागीय नोडल अधिकारियों व स्टाफों को सतर्कता बरतने और निगरानी बनाए रखने के लिए निर्देशित किया गया है। वहीं नोडल अधिकारी वायसी दीक्षित ने बताया कि जिला में अभी तक तोते की मौत के अलावा अन्य किसी पक्षियों की मरने की सूचना अबतक नहीं मिली है। लेकिन जिले की सीमावर्ती जिलों डिंडौरी और मंडला के वनीय क्षेत्रों में कुछ कौओं के मरने की सूचना मिली है। यह संकमण माइग्रेटी बर्ड के कारण फैली है, जिसके कारण पालतू और पॉल्टी फार्म में पलने वाले कुक्कटों तक नहीं पहुंची है। वनीय क्षेत्र में ही पक्षी प्रभावित हो रहे हैं। लेकिन यह खतरे की घंटी मानी जाएगी, और इससे सावधानी बरतने की जरूरत है। वहीं नोडल अधिकारी ने बताया कि वर्ष २०१२-१३ के दौरान फैली बर्ड फ्लू के दौरान से ही प्रत्येक तीन माह में रूटिन रिपोर्ट भोपाल भेजा जा रहा है। जिसमें अबतक भेजे गए ५० सैम्पल केस के सभी रिपोर्ट निगेटिव आए हैं। लेकिन पशु विभाग की दी जा रही जानकारियों के बाद भी बर्ड फ्लू जैसे खतरे से जिलेवासियों में भय का माहौल बना हुआ है। नागरिकों का कहना है कि कोरोना संक्रमण जैसी महामारी से अभी निजात भी नहीं मिल पाई थी कि स्टेन और बर्ड फ्लू जैसे संक्रमणों ने अपना प्रभाव जता दिया है।
--------------------------------------------

Show More
Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned