बिल्ड अप इंडिया: 20 प्रतिशत श्रमिकों की स्किल मैपिंग से नाराज कलेक्टर, श्रमिकों को नियोजित के दिए निर्देश

मनरेगा के तहत फलोद्यान पर जोर देने की अपील, 45 हजार लोगों को मिल रहा प्रतिदिन कार्य

By: Rajan Kumar Gupta

Published: 30 Jun 2020, 06:02 AM IST

अनूपपुर। कोरोना संक्रमण के दौरान बंद हुए उद्योग धंधे तथा उसमें बेरोजगार होकर वापस गांव लौटे प्रवासी मजदूरों को प्रशासनिक स्तर पर स्किल के आधार पर रोजगार उपलब्ध कराने की योजना में अबतक मात्र २० फीसदी कार्य होने पर कलेक्टर ने नाराजगी जताई है। प्रवासी श्रमिकों की स्किल का कार्य सुस्त गति से किए जाने पर सम्बंधित अधिकारियों को फटकार भी लगाई और अधिकारियों को प्राथमिकता के साथ कार्य पूर्ण के निर्देश दिए हैं। सोमवार२९ जून को कलेक्टर प्रवासी श्रमिकों की स्किल मैपिंग की समीक्षा कर रहे थे, जिसमें यह बात सामने आई कि जिले में अबतक पंजीकृत हुए ३६६६ श्रमिकों में से सिर्फ २० प्रतिशत की स्किल मैपिंग का कार्य पूर्ण किया जा सका है। जबकि जिले में ३६४४ पंजीकृत श्रमिकों को रोजगार देने के लिए ११४ नियोक्ताओं ने मदद का हाथ बढ़ाया है। विभागीय जानकारी के अनुसार अबतक ५८८ संगठित क्षेत्रों में नियोजित प्रवासी श्रमिक, २००६ भवन एवं अन्य निर्माण कार्यो में नियोजित प्रवासी श्रमिक, १०७२ कारखाना में नियोजित प्रवासी श्रमिक है। जिनमें अबतक १० श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध हो सके हैं। इनमें एक ठेकेदार ने तथा९ अन्य नियोजकों ने अपने यहा रोजगार उपलब्ध कराया है। विभागीय जानकारी में देखा जाए तो शहरी क्षेत्र में १४५ मजदूर, ग्रामीण क्षेत्र में ३५२१ मजदूर है। इनमें पुरूष ३२६७ तथा ३९९ महिलाएं हैं।
स्किल मैपिंग कार्य पर असंतोष व्यक्त करते हुए कलेक्टर ने सम्बंधित अधिकारियों को इसे प्राथमिकता के साथ पूर्ण करने के निर्देश दिए है। इसके साथ ही श्रम, उद्योग विभाग एवं निर्माण एजेंसी के अधिकारियों को पंजीकृत नियोक्ताओं को स्थानीय प्रवासी श्रमिकों को नियोजित किए जाने प्रेरित करने के भी निर्देश दिए हैं। कलेक्टर ने कहा सम्बंधित नियोक्ताओं, रोजग़ार प्रदाताओं, ठेकेदार कौशल वाले प्रवासी श्रमिकों से सम्पर्क करने में सहयोग करें। इस दौरान कलेक्टर ने मनरेगा के तहत कार्य चालू रख अधिक से अधिक लोगों को नियोजित करने के निर्देश दिए। मानसून को देखते हुए फलोद्यान के कार्य प्रारम्भ किए जाने पर जोर दिया। सीईओ जिपं मिलिंद नाग़देवे ने बताया कि वर्तमान में लगभग 45 हज़ार लोगों को मनरेगा के तहत प्रतिदिन कार्य उपलब्ध हो रहा है।
----------------------------------------------------

Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned