बारिश के साथ बह गई नहर, 8 गांव के किसानों को नहीं मिल पाएगा सिंचाई का पानी

3.11 करोड़ से बनाया जाना था 22 किलोमीटर लम्बी नहर, अभी आधा ही हुआ था निर्माण

अनूपपुर। शासन की करोड़ों की सिंचाई योजना को विभागीय अधिकारियों की लापरवाही में किसानों से वंचित कर दिया गया है। जिसके कारण किसानों को इस वर्ष भी गर्मी के दिनों में समय से नहर से पानी नहीं मिल पाएगा। विभाग की निर्माण भी ऐसी कि निर्माण के बाद पहली बारिश में करोड़ों की नहर निर्माण से पूर्व टुकड़ों में जगह जगह में बंटकर क्षतिग्रस्त हो गई। ऐसा ही निर्माण जल संसाधन विभाग द्वारा पुष्पराजगढ़ क्षेत्र के ग्राम पोडक़ी के जोहिला जलाशय में किया गया है। जहंा तीन करोड़ ११ लाख की लागत से 2२ किलोमीटर पक्की नहर का निर्माण आधे से कम दूरी निर्मित हो कर बदहाल हो गया है। जबकि नहर निर्माण का कार्य आरम्भ हुए लगभग डेढ़ वर्ष हो चुके हैं। लेकिन अभी तक लगभग 10 किलोमीटर ही नहर का निर्माण कार्य हो पाया है। बताया जाता है कि जलसंसाधन विभाग द्वारा नहर निर्माण का कार्य ठेकेदार से कराया जा रहा है। निर्माण कार्य की समय अवधि 2 बार बढ़ाई जा चुकी है। इसके बावजूद ठेकेदार द्वारा निर्माण कार्य पूर्ण नहीं कराया गया है। निर्माण एजेंसी द्वारा तकनीकी स्वीकृत से हटकर घटिया मटीरियल सामग्री का उपयोग कर निर्माण कार्य कराया गया है। जिसके कारण पहली बरसात में ही कई स्थानों पर नहर टूटकर क्षतिग्रस्त हो गई है। ग्रामीणों के अनुसार इस नहर से आसपास के ८ गांवों को लाभांवित किया जाना था। जिसमें १२४० हेक्टेयर भूमि को सिंचाई का लाभ मिलता। लेकिन विभागीय लापरवाही में निर्मित हो रही नहर ठेकेदार की मनमानी में निर्माण से पूर्व तहस नहस हो गई। जिससे किसानों को खेतों में पानी नहीं मिल पा रहा है। जबकि उक्त नहर का निर्माण कार्य पूर्ण करने की अवधि समाप्त हो चुकी है।
---------------------------------------------------------

Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned