scriptChildren felt the feeling in Shiv Lehra Temple | शिव लहरा मंदिर में बच्चों ने अनुभूति का किया अहसास | Patrika News

शिव लहरा मंदिर में बच्चों ने अनुभूति का किया अहसास

इतिहास सहित प्रकृति के महत्व से हुए रूबरू

अनूपपुर

Published: January 13, 2022 10:23:59 pm

अनूपपुर। वनमंडल कोतमा परिक्षेत्र के शिवलहरा ऐतिहासिक स्थान पर बच्चों में वनीय जीवन और पर्यावरण के बीच सम्बंध की जानकारी के लिए अनुभूति कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जहां भविष्य की पीढ़ी को प्रकृति संरक्षण से जोडऩे और समाज में जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से उन्हें वनजीवों, प्रकृति में व्याप्त पेड़-पौधों और उनके कारकों के साथ उनसे संचालित पर्यावरणीय चक्र के बारे में जानकारी दी गई। कार्यक्रम में मुख्य वन संरक्षक पीके वर्मा, सहायक वनसंरक्षक केबी सिंह, वन परिक्षेत्राधिकारी परिवेश सिंह भदौरिया, मास्टर ट्रेनर संजय पयासी, मास्टर ट्रेनर शशिधर अग्रवाल, परिक्षेत्र सहायक जवाहर लाल धर्वे, भालूमाड़ा और दारसागर स्कूल के शिक्षक, वन विभाग अमला सहित स्कूलों के 120 बच्चे शामिल हुए। मुख्य वनसंरक्षक पीके वर्मा ने बच्चों को प्रकृति के महत्व और उसके संरक्षण में बच्चों की क्या भूमिका है इस पर विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने जैव विविधता से संबंधित प्रश्न पूछकर बच्चों की जिज्ञासा का भी समाधान किया। सहायक वन संरक्षक केबी सिंह ने बच्चों को अनुभूति कार्यक्रम का उद्देश्य बताते हुए बच्चों के सहयोग के बिना वन की सरंक्षा अधूरा बताया। वहीं वन परिक्षेत्राधिकारी परिवेश सिंह भदौरिया ने वन विभाग की संरचना बच्चों को बताई। मास्टर ट्रेनर संजय पयासी एवं शशिधर अग्रवाल ने बच्चों को केवई नदी के किनारे भ्रमण करवाते हुए पक्षी दर्शन कराया। इसके साथ ही भालू की गुफाओं (माड़ा) की वजह से ही इस क्षेत्र का नाम भालूमाड़ा पडऩे की जानकारी दी। साथ ही नदी में किस तरह खेतों और नालों से पानी आता है यह भी बताया। नदी की संरचना के बारे में मास्टर ट्रेनरों द्वारा जानकारी दी गई। बच्चों ने मिट्टी के अपरदन, उसके संरक्षण में घास, झाड़, पौधे और पेड़ों की भूमिका, अनूपपुर में पाए जाने वाले जंगली जानवरों, सांपों के बारे में भी बताया गया। इस दौरान सर्पदंश की भ्रांतियों और उससे बचने के उपाय भी बताए गए। बच्चों ने पांडवकालीन ऐतिहासिक शिवलहरा गुफाओं के बारे में जानकारी प्राप्त करते हुए उसकी महत्ता को समझा। उसमें बने शैलचित्रों के बारे में कहानी सुनी। केवई नदी के किनारे अबाबील पक्षी की बस्ती देखी। वहीं बच्चों ने केवई नदी के किनारे बैठकर वन देवी और ग्रामदेवता का आह्वान किया और सुख-समृद्धि की प्रार्थना की। कार्यक्रम में वन विभाग कोतमा में पदस्थ सर्प प्रहरी हरिवंश प्रसाद पटेल ने पर्यावरण संरक्षण पर एक बघेली गीत सुनाया।
------------------------------------------------
Children felt the feeling in Shiv Lehra Temple
शिव लहरा मंदिर में बच्चों ने अनुभूति का किया अहसास

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

India-Central Asia Summit: सुरक्षा और स्थिरता के लिए सहयोग जरूरी, भारत-मध्य एशिया समिट में बोले पीएम मोदीAir India : 69 साल बाद फिर TATA के हाथ में एयर इंडिया की कमानयूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रUP Election 2022: भाजपा सरकार ने नौजवानों को सिर्फ लाठीचार्ज और बेरोजगारी का अभिशाप दिया है: अखिलेश यादवतमिलनाडु सरकार का बड़ा फैसला, खत्म होगा नाईट कर्फ्यू और 1 फरवरी से खुलेंगे सभी स्कूल और कॉलेजपीएम नरेंद्र मोदी कल करेंगे नेशनल कैडेट कॉर्प्स की रैली को संभोधित, दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में होगा कार्यक्रम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.