6 सूत्री मांगों में धरने पर बैठे नपा कर्मचारी सफाई; पानी, बिजली जैसी जरूरी सुविधाएंं रही बंद, असुविधाओं से बेहाल हुए नगरवासी

6 सूत्री मांगों में धरने पर बैठे नपा कर्मचारी सफाई; पानी, बिजली जैसी जरूरी सुविधाएंं रही बंद, असुविधाओं से बेहाल हुए नगरवासी

shivmangal singh | Publish: Jul, 13 2018 08:28:18 PM (IST) Anuppur, Madhya Pradesh, India

6 सूत्री मांगों में धरने पर बैठे नपा कर्मचारी सफाई; पानी, बिजली जैसी जरूरी सुविधाएंं रही बंद, असुविधाओं से बेहाल हुए नगरवासी

नगर निकाय कार्यालयों पर लगे ताले, असुविधाओं से बेहाल हुए नगरवासी
अनूपपुर। मप्र. नगरपालिका कर्मचारी संघ के आह्वन पर नपा कर्मचारियों द्वारा ६ सूत्री मांगों में १८ जून को किए गए एकदिनी हड़ताल के बाद सरकार की अनदेखी पर पुन: ६ सूत्री मांगों में नगरपालिका कर्मचारियों ने १२ जुलाई से अनिश्चितकालीन हड़ताल आरम्भ कर दी है। जहां बिजुरी नगरपालिका को छोडक़र जिले की अन्य समस्त ५ नगरीय संस्थाओं के कार्यालय पर ताला लगाकर कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर धरना प्रदर्शन किया। अनिश्चितकालीन काम बंद हड़ताल में निकाय से जुड़े सफाई, बिजली, और पानी जैसे महत्वपूर्ण कार्य नहीं हुए। हड़ताल के नगर की सडक़ों व वार्डो में कचरे का ढेर सुबह से पड़ा रहा। यहां तक नगरीय क्षेत्र के समस्त वार्डो की घरों से संग्रह किए जाने वाले कचरे भी घरों में पड़े रह गए। जबकि लोगों की जरूरत में सबसे महत्वपूर्ण पानी की आपूर्ति भी सुबह से लगातार प्रभावित रही। नगरपालिका कर्मचारियों का कहना है कि इससे पूर्व कर्मचारी संघ के आह्वन पर नगरपालिका कर्मचारियों ने २० अप्रैल को एक दिनी हड़ताल की थी। जबकि २८ अप्रैल को संचालनालय का घेराव करने पर नगरीय प्रशासन विभाग के प्रमुख सचिव तथा वित्त मंत्री ने समस्त मांगों पर सहमति प्रदान की। लेकिन आश्वासन के ४५ दिनों बाद भी कोई आदेश जारी नहीं हुआ। जिसपर मप्र. नगरपालिका कर्मचारी संघ के आह्वन पर प्रदेश के समस्त निकायों के अधिकारियों, कर्मचारियों, दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों, जनसेवकों, कम्प्यूटर ऑपरेटरों एंव सामुदायिक संगठनों ने मांगों के निराकरण नहीं होने से नाराजगी जताते हुए १८ जून को निकाय कार्यालयों पर फिर से ताला जड़ अनिश्चितकालीन हड़ताल आरम्भ की थी। यहां भी सरकार ने कर्मचारियों को सातवां वेतनमान एक सप्ताह के अंदर दिए जाने का आश्वासन दिया। लेकिन सरकार के इन वादों ेके अबतक पूरा नहीं होने पर पुन: नगरपालिका कर्मचारी संघ भोपाल ने अनिश्चितकालीन हड़ताल का बिगुल बजा दिया। जिसमें १२ जुलाई को अनूपपुर नगरपालिका, पसान, जैतहरी, कोतमा, अमरकंटक निकाय कार्यालयों के कर्मचारियों ने के काम काज बिल्कुल ठप कर दिए। कर्मचारी-अधिकारियों ने सरकार के खिलाफ नारे लगाते हुए उनकी मांगों को जल्द पूरा करने की मांग की।
निकाय कर्मचारी संघ अनूपपुर जिला अध्यक्ष रमेश प्रसाद नापित के अनुसार उनकी छह मुख्य मांगों में निकायों के समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों को सांतवें वेतनमान का लाभ दिया जाए, निकाय क समस्त कर्मचारियों को समयामान वेतनमान का लाभ दिया जाए, नगर निगमों, नगरपालिकाओं, नगरपरिषदों में कार्यरत सितम्बर २०१६ तक कार्यरत समस्त दैनिक वेतनभोगियों को स्थायीकर्मी योजना का लाभ, निकायों के सेवाभर्ती नियमों में कम्प्यूटर ऑपरेटरों के पद को समाहित किए जाने, निकायों में कार्यरत सामुदायिक संगठनों को वर्तमान तक नियमित नहीं किया गया है, जबकि निकायों के सेवाभर्ती नियमों में उनके पदों का समावेश वर्ष २०१५ में किया जा चुका है तथा निकायों के स्थापना व्यय की सीमा ६५ प्रतिशत के स्थान पर ७० प्रतिशत किया जाना शामिल हैं।
बॉक्स: आधा दर्जन वार्डो में पानी के लिए तरसे लोग
निकाय अधिकारियों व कर्मचारियों की हड़ताल में अनूपपुर नगरपालिका में हड़ताल का व्यापक असर दिखा। गुरूवार को पानी के लिए नगरवासी त्रस्त नजर आए। हड़ताल में नगरपालिका के सप्लाय पानी टैंकर के भरोसे जीवन निर्वहन करने वाले लोगों के घर पानी की आपूर्ति नहीं हो सकी। पानी के लिए लोग एक वार्ड से दूसरे वार्ड तक दिनभर दौड़ लगाते नजर आए। यहीं हाल बिजुरी नगरपालिका में भी नजर आया, कोल खदानों के कारण पानी की समस्या से जूझ रहे वार्डवासियों को आज बिना पानी ही दिन गुजारना पड़ा।
वर्सन:
जबतक हमारी मांगे सरकार पूरी नहीं करती, कर्मचारियों की अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी रहेगी। पूर्व में सरकार ने आश्वासन देकर बार बार हमारी हड़ताल को प्रभावित किया है। लेकिन इस बार आर-पार की लड़ाई होगी।
रमेश नापित, जिला अध्यक्ष निकाय कर्मचारी संघ अनूपपुर।

Ad Block is Banned