पैसे के भुगतान में अटका सड़कों का निर्माण, अधूरी सड़क बन रही मौत की डगर

पैसे के भुगतान में अटका सड़कों का निर्माण, अधूरी सड़क बन रही मौत की डगर
पैसे के भुगतान में अटका सड़कों का निर्माण, अधूरी सड़क बन रही मौत की डगर

Rajan Kumar | Updated: 06 Oct 2019, 01:02:39 PM (IST) Anuppur, Anuppur, Madhya Pradesh, India

पुलिया तक सडक़ का नहीं हुआ निर्माण, जान क बाजी लगाकर नदी पार रहे वाहन व पदैल यात्री

अनूपपुर। अनूपपुर जिला मुख्यालय सहित चचाई और पुष्पराजगढ़ के नोनघाटी से लीलाटोला तक एमपीआरडीसी के अधीनस्थ लगभग ८६ किलोमीटर लम्बी निर्माणाधीन सडक़ अब पैसे के अभाव में आधी अधूरी पड़ी है। शासन द्वारा एमपीआरडीसी द्वारा दिए गए निर्माण ठेकेदार को लगभग १८-२० करोड़ की राशि का भुगतान नहीं किया गया है। जिसके कारण अनूपपुर जिला मुख्यालय में चचाई से पुरानी आरटीओ कार्यालय तक लगभग २ किलोमीटर लम्बी सडक़ का निर्माण अटका हुआ है। यहीं नहीं अमरकंटक तिराहा से चंदास नदी पार तक लगभग किलोमीटर लम्बी सडक़ का भी निर्माण नही हो सका। वहीं निर्माण कंपनी ने चंदास नदी पर पुलिया का निर्माण कर इसे अस्थायी सडक़ व्यवस्था से जोड़ दिया है। जिसके कारण यह मार्ग अब मौत की डगर की भांति नजर आती है। पुलिया के दोनों छोर वाहनों की आवाजाही और बारिश के पानी में कटाव के कारण दोनों हिस्से धंस गए हैं। जिसमें वाहन चालकों से लेकर पैदल यात्रियों को अपनी जान हथेली पर लेकर पुलिया पार करना पड़ता है। पुलिया के अस्थायी मार्ग में हुए कटाव के कारण वाहनों की आवाजाही के दौरान साइड से पैदल चलने की भी जगह नहीं है। जबकि पुष्पराजगढ़ विकासखंड में इसी निर्माण कंपनी के द्वारा बनाई जा रही ४४ किलोमीटर लम्बी सडक़ का एक चौथाई हिस्सा अभी भी निर्माणाधीन है। एमपीआरडीसी के अधीनस्थ निर्माण कर रही कंपनी के मुख्य प्रबंधक का कहना है कि लगभग ८६ किलोमीटर लम्बी सडक़ परियोजना में शासन स्तर पर लगभग १८-२० करोड़ की राशि का भुगतान अटका हुआ है। पैसे के अभाव में मैन पावर और मैटरियल की आपूर्ति प्रभावित हुई है। जिसके कारण बार बार निर्माण कार्य रोकना पड़ रहा है। विदित हो कि एमपीआरडीसी के तहत २२ किलोमीटर लम्बी सडक़ अनूपपुर-चचाई-अमलाई तक बनाई जा रही है। जबकि १० किलोमीटर लम्बी सडक़ अमरकंटक तिराहा से सकरा मोड़ तक तथा ४४ किलोमीटर लम्बी सडक़ नोनघटी-दमहेड़ी व लीलाटोला तक निर्माणाधीन है।
बॉक्स: किलोमीटर भर कीचड़ से सन जाती सडक़
१५० करोड़ की एमपीआरडीसी की सडक़ परियोजना में अनूपपुर-चचाई निर्माणाधीन सडक़ में अनूपपुर शहर की सीमा के पास लगभग २ किलोमीटर लम्बी सडक़ अधूरी है। बारिश के समय यह सडक़ किसी मौत की डगर से कम नजर नहीं आती। भारी वाहनों की आवाजाही में पूर्व में सडक़ पर बिछाए गए बेस मैटरियल उधड़ गए हैं। पत्थर के बड़े-बड़े टुकड़ों पर वाहन चलना क्या पैदल गुजरना भी मुश्किल होता है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned