दुल्हीकुंड नदी का अस्तित्व खतरे में, कॉलोनी का दूषित पानी मिल रहा मुख्य धार से

कॉलरी कॉलोनी से निकलने वाली गंदगी वर्षों से कर रही प्रवाहित

By: Rajan Kumar Gupta

Published: 06 Jan 2021, 11:40 AM IST

अनूपपुर। नगर पालिका बिजुरी अंतर्गत वार्ड क्रमांक 1 मौहरी से निकलने वाली दुल्हीकुंड नदी का अस्तित्व धीरे धीरे समाप्त होता जा रहा है। केवई नदी की सहायक नदी के रूप में वर्षों से यह नदी स्थानीय लोगों के लिए पेयजल तथा अन्य उपयोग में आने वाले जल का प्रमुख स्रोत रहा है। लेेकिन अब धीरे-धीरे इसकी धार विलुप्त होते जा रही है। बताया जाता है कि माइनस तथा ऊर्जा नगर कॉलोनी से निकलने वाली गंदगी तथा नालियों से निकलने वाले गंदे पानी को कॉलरी प्रबंधन इस नदी में प्रवाहित कर रहा है। जिसके कारण यह नदी गंदगी तथा प्रदूषण के कारण विलुप्त होने की कगार पर पहुंच चुकी है। दुल्हीकुंड नदी जगह जगह गंदगी की चपेट में आ चुकी है। माइनस कॉलोनी, डबल स्टोरी कॉलोनी तथा स्टाफ कॉलोनी एवं ऊर्जा नगर कॉलोनी से निकलने वाली गंदगी नाली के माध्यम से नदी की मुख्य धारा में उतर रही है। परिणामस्वरूप नदी का पानी दिनोंदिन गंदा होता जा रहा है और इसका प्राकृतिक जल स्रोत समाप्ति की कगार पर पहुंच चुका है।
बॉक्स: पूर्व कलेक्टर ने दिए थे संरक्षित करने के निर्देश
अनूपपुर के पूर्व तत्कालीन कलेक्टर नंद कुमारम के द्वारा इस नदी की स्थिति पर चिंता जाहिर करते हुए मौका मुआयना किया था और अधिकारियों से इसे संरक्षित करने तथा गहरीकरण करते हुए जल स्रोत को पुनर्जीवित करने के निर्देश दिए गए थे। जिसके बाद नगर पालिका द्वारा पीपल घाट तथा स्टॉप डैम के समीप घाट निर्माण तथा गहरीकरण भी कराया गया था। लेकिन यह कार्य भी आधी अधूरी स्थिति में होने के कारण नदी की जलधारा में कोई परिवर्तन नहीं आ पाया है।
--------------------------------------------

Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned