बच्चों में कुपोषण, डायरिया और निमोनिया रोकने माह भर स्वास्थ्यकर्मी देंगे घरों पर दस्तक

दस्तक अभियान: 300 से अधिक स्वास्थ्यकर्मी को जिम्मेदारी, एसएनसीयू एवं एनआरसी में भर्ती बच्चों के फॉलोअप के निर्देश

By: Rajan Kumar Gupta

Published: 29 Dec 2020, 11:53 AM IST

अनूपपुर। जिले के बच्चों में कुपोषण, डायरिया और निमोनिया रोकने दो दिवसीय दस्तक अभियान चलाया जाएगा, जो 11 जनवरी से 13 फरवरी तक चलेगा। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिले की 300 एएनएम, एलएचवी, सीएचओ का प्रशिक्षण देकर दस्तक की जिम्मेदारी सौंपी है। जिला टीकाकरण के संबंध में सीएमएचओ डॉ. बीडी सोनवानी ने बताया कि अभियान में आशा, आंगनबाडी कार्यकर्ता एवं एएनएम संयुक्त रूप से घर-घर जा कर 5 वर्ष से कम आयु के बच्चों की जानकारी प्राप्त करेंगी। और विभिन्न प्रकार की बीमारियों की पहचान एवं उपचार कार्य करेंगी। सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को गंभीरता से काम करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा महिला बाल विकास विभाग और स्वास्थ्य विभाग साथ मिलकर कुपोषण बच्चों का चिन्हाकन का कार्य भी करेगा और उनके उचित इलाज की व्यवस्था करेगा। अभियान के अंतर्गत स्तनपान के चार संदेशों की भी जानकारी ग्रामीणों व माताओं को दी जाएगी। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. एसबी चौधरी ने बताया कि दस्तक अभियान के अंतर्गत 5 वर्ष से कम उम्र के गम्भीर कुपोषित बच्चों की पहचान रेफरल एवं प्रबंधन, 6 माह से 5 वर्ष तक के बच्चों में गम्भीर एनीमिया की पहचान कर उनका प्रबंधन, 9 माह से 5 वर्ष तक के सभी बच्चों को विटामिन ए अनुपूरण पिलाई जाएगी। 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में दस्त रोग के नियंत्रण के लिए ओआरएस की उपयोगिता के लिए सामुदायिक जागरूकता बढाने के लिए आशा एवं आंगनबाडी कार्यकर्ता, स्वास्थ्य कार्यकर्ता द्वारा घर घर जाकर ओआरएस पहुचाना और उनके बनाने की विधि की जानकारी दी जाएगी। एसएनसीयू एवं एनआरसी में भर्ती बच्चों को छुटटी के बाद उनका फॉलोअप करने के निर्देश दिए गए हैं।
---------------------------------------------

Show More
Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned