scriptHere in the crop circle, the area of Kodo and pulses and oilseeds incr | यहां फसल चक्र में कोदो व दलहन और तिलहन का बढ़ाया इतना रकबा कि धान की घट गया क्षेत्रफल | Patrika News

यहां फसल चक्र में कोदो व दलहन और तिलहन का बढ़ाया इतना रकबा कि धान की घट गया क्षेत्रफल

1 लाख 84 हजार हेक्टेयर पर खरीफ की तैयारी

अनूपपुर

Published: June 05, 2022 10:44:51 pm

अनूपपुर। जिले में परंपरागत खेती पर जोर देते हुए इस वर्ष कृषि विभाग ने फसल चक्र की प्रक्रिया को अपनाया है। जिसमें कोदो के उत्पादन में किसानों की बढ़ती रूचि और बाजार की डिमांड में इसके क्षेत्रफल में ५ हजार अधिक रकबा को बढ़ाया है। वहीं खेतोंं में दहलन और तिलहन के पैदावार को बढ़ाने और किसानों को लाभ पहुंचाने धान के १६ हजार हेक्टेयर रकबे को कम कर दलहन और तिलहन के कद को बढ़ाया है। दलहनी और तिलहनी फसलों में पूर्व वर्षो की उपेक्षा ९.५० हजार हेक्टेयर अधिक रकबे निर्धारित किए गए हैं। विभाग का मानना है कि इस प्रकार से फसल चक्र बदलने से खेतों की उर्वरा शक्ति को बरकरार रखते हुए किसानों को भी अन्य फसल उगाने प्रेरित किया जा सकेगा। इससे जिले में खरीफ की बेहतर पैदावार होगी और किसानों को लाभ पहुंच सकेगा। इस वर्ष जिले के १ लाख ८४ हजार हेक्टेयर रकबे में फसल लेने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। जिसमें लगभग १6 हजार हेक्टेयर में धान की फसल कम कर उसकी जगह दलहन-तिलहन लेने की तैयारी की गई है।
उप-संचाालक कृषि विभाग एनडी गुप्ता ने बताया कि इस खरीफ सीजन 2022-23 में दलहन-तिलहन की फसल को बढ़ावा देने के लिए पिछले साल की तुलना में धान के रकबे को कम कर दिया गया है। इस वर्ष विभाग के तय लक्ष्य में लगभग १०५.९५ हेक्टेयर में धान की फसल प्रस्तावित की गई है। १४.७२ हजार हेक्टेयर में मक्का, २०0 हेक्टेयर में ज्वार, २०.१५ हजार हेक्टेयर पर कोदो-कुटकी सहित १४१.०२ हजार हेक्टेयर पर अनाज। वहीं ८.९० हजार हेक्टेयर में उड़द, १.२० हजार हेक्टेयर पर मूंग, १५.३४ हजार हेक्टेयर पर अरहर, ५०० हेक्टेयर पर कुल्थी सहित २५.९४ हजार हेक्टेयर पर दलहन के लक्ष्य रखे गए हैं। जबकि २.९९ हजार हेक्टेयर पर तिल, ७.८६ हजार हेक्टेयर पर रामतिल, १.३० हजार हेक्टेयर पर मंूगफली अैर ५.६१ हजार हेक्टेयर पर सोयाबीन का लक्ष्य प्रस्तावित है।
कोदो का बढ़ा क्षेत्रफल, धान हुआ कम
विभागीय जानकारी के अनुसार कोदो स्वास्थ्यबर्धक और परम्परागत खाद्य श्रेणी में शामिल हैं। प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित करने के साथ स्थानीय स्तर पर आउटलेट की दुकान की व्यवस्था बनाई गई है। प्रशासन स्वयं ब्रांडिंग, पैकजिंग, और प्रोसेसिंग पर ध्यान दे रहा है। वर्ष २०१९ में जिला प्रशासन, कृषि विभाग, आत्मा परियोजना और एलबीआई आईजीएनटीयू अमरकंटक की मदद से बहपुरी में कोदो प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित किया गया जिससे उत्पादन की बढोत्तरी हुई है। जिसका संचालन लक्ष्मी और सतगुरू जैसे महिला स्वसहायता समूह कर रही है। पिछले वर्ष १५ हजार हेक्टेयर रकबा निर्धारित किया गया था। जिसमें १४.९० हजार हेक्टेयर की पूर्ति हुई। इसे देखते हुए इस वर्ष २०.१५ हजार हेक्टेयर रख गया है। जबकि पिछले वर्ष धान का रकबा १२२ हजार हेक्टेयर था, जिससे १२१.१६ की पूर्ति हुई। इसमें इस वर्ष १६ हजार हेक्टेयर कम कर १०५.९५ हजार हेक्टेयर रखा गया है। वहीं इस वर्ष बाजरा का रकबा शून्य रखा गया है।
बॉक्स: लगातार एकल फसल से जमीन की उर्वरा शक्ति हो रही कमजोर
उप संचालक कृषि का कहना है कि लगातार एक ही फसल लेने से जमीन की उर्वरा शक्ति पर असर पड़ता है। शासकीय योजना से लाभ के कारण किसान धान की खेती पर अधिक जोर देते हैं, जो आगे चलकर उन्हें काफी नुकसान भी होता है। इसके अलावा धान की फसल को अधिक पानी की आवश्यकता पड़ती है। वहीं ज्यादातर कृषि रकबा असिंचित एरिया में आता है। गेहूं की फसल जिलेभर में आधे से भी कम भूमि पर होती है। फसल चक्र अपनाकर जमीन की उर्वरा शक्ति बरकरार रखते हुए कम सिंचाई सुविधा में भी अच्छी पैदावार कर सकता है।
वर्सन:
इस वर्ष कुछ बदलाव किए गए हैं, दहलन और तिलहन के साथ कोदो को बढ़ावा देने अधिक रकबा बढ़ाया गया है। फसल चक्र अपनाकर किसान खेत की उर्वरा शक्ति बनाए रखने के साथ अधिक लाभ भी अर्जित कर सकते हैं।
एनडी गुप्ता, उपसंचालक कृषि विभाग अनूपपुर।
--------------------------------------------
Here in the crop circle, the area of Kodo and pulses and oilseeds incr
यहां फसल चक्र में कोदो व दलहन और तिलहन का बढ़ाया इतना रकबा कि धान की घट गया क्षेत्रफल

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

श्रीनगर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, एक आतंकी को लगी गोली, जवान भी घायल38 साल बाद शहीद लांसनायक चंद्रशेखर का मिला शव, सियाचिन ग्लेशियर की बर्फ में दबकर हो गए थे शहीदराष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का देश के नाम संबोधन, कहा - '2047 तक हम अपने स्वाधीनता सेनानियों के सपनों को पूरी तरह साकार कर लेंगे'पंजाब में शुरु हुई सेहत क्रांति की शुरुआत, 75 'आम आदमी क्लीनिक' बन कर तैयार, देश के 75वें वर्षगांठ पर हो जाएंगे जनता को समर्पितMaharashtra: सीएम शिंदे की ‘मिनी’ टीम में हुआ विभागों का बंटवारा, फडणवीस को मिला गृह और वित्त, जानें किसे मिली क्या जिम्मेदारीलाखों खर्च कर गुजराती युवक ने तिरंगे के रंग में रंगी कार, PM मोदी व अमित शाह से मिलने की इच्छा लिए पहुंचा दिल्लीशेयर मार्केट के बिगबुल राकेश झुनझुनवाला की मौत ऐसे हुई, डॉक्टर ने बताई वजहBJP ने देश विभाजन पर वीडियो जारी कर जवाहर लाल नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस ने किया पलटवार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.