scriptHere students will get modern resources with better education, college | यहां विद्यार्थियों को मिलेगी बेहतर शिक्षा के साथ आधुनिक संसाधन, कॉलेज कर रहा नैक क्वालीफाई की तैयारी | Patrika News

यहां विद्यार्थियों को मिलेगी बेहतर शिक्षा के साथ आधुनिक संसाधन, कॉलेज कर रहा नैक क्वालीफाई की तैयारी

शैक्षणिक गतिविधियों पर फोकस, खड़ा कर रहे आधुनिक इंफ्रास्टेक्चर, मेंटर ने किया निरीक्षण

अनूपपुर

Published: April 27, 2022 11:37:06 am

अनूपपुर। राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद जिसका उद्देश्य संसाधनयुक्त संस्थाओं में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देकर शिक्षा को अन्य संस्थाओं में प्रतिस्पर्धा की स्थिति में खड़ा करना। इस व्यवस्था से जहां छात्रों की शैक्षणिक गतिविधियों में विविधता के साथ गुणवत्ता का विकास होता है वहीं संसाधनों के रूप में छात्रों को आधुनिक इंफ्रास्टेक्चर मिल पाते हैं। अब जिले की अग्रणी शासकीय तुलसी महाविद्यालय भी नैक क्वालीफाई करने की तैयारी में जुट गया है। यह इस कॉलेज के लिए दूसरा प्रयास होगा। भले ही इंफ्रास्टेक्चर के रूप में कुछ कमियां है, लेकिन एसएसआर (सेल्फ स्टडी रिपोर्ट) की मजबूती पर वह नैक के दहलीज पर अपने को खड़ा साबित करने के प्रयास में जुटा है। अगर शासकीय तुलसी महाविद्यालय अनूपपुर नैक क्वालीफाई करता है तो यूजीसी के तहत बेहतर शैक्षणिक गतिविधियों के साथ इंफ्रास्टेक्चर को मजबूर बनाने अधिक धन और संसाधन मिल पाएंगे, जिससे यहां पढऩे आने वाले छात्रों को उच्च शिक्षा के लिए बाहर की दर-दर ठोकरें नहीं खानी पड़ेगी। कॉलेज के प्राचार्य डॉ. विक्रम सिंह बघेल और प्राभारी आंतरिक गणुवत्ता प्रकोष्ठ शासकीय तुलसी कॉलेज डॉ. अमित भूषण द्विवेदी बताते हैं कि मूल्यांकन एवं प्रत्यायन सामान्यत: किसी भी शैक्षिक संस्था की गुणवत्ता की स्थिति को समझने के लिए प्रयोग किया जाता है। यह मूल्यांकन यह निर्धारित करता है कि कोई भी शैक्षिक संस्था या विश्वविद्यालय प्रमाणन एजेंसी के द्वारा निर्धारित गुणवत्ता के मानकों को किस स्तर तक पूरा कर रहा है। यहां उत्र्तीणता के लिए १००० अंक निर्धारित किए गए हैं, जिसमें एसएसआर के लिए ७०० अंक तथा निरीक्षण के दौरान वास्तविक जांच परख के लिए ३०० अंक शामिल है। यहां एसएसआर की जांच पूरी करने के बाद वास्तविकताओं की जांच में नैक की टीम संस्था पहुंचती है, जहां शैक्षणिक और इंफ्रास्टैक्चर सहित अन्य मानकों की जांच पड़ताल करती है।
बॉक्स: किन किन बिंदूओं को होगा फोकस
प्राचार्य ने बताया कि नैक की टीम ७ बिन्दूओं पर जांच करती है। इनमें शैक्षिक प्रक्रियाओं में संस्था का प्रदर्शन, पाठ्यक्रम चयन एवं कार्यान्वयन, शिक्षण अधिगम एवं मूल्यांकन तथा छात्रों के परिणाम, संकाय सदस्यों का अनुसंधान कार्य एवं प्रकाशन, बुनियादी सुविधाएं तथा संसाधनों की स्थिति, संगठन, प्रशासनिक व्यवस्थाएं, आर्थिक स्थिति तथा छात्र सेवाएं हेाती है। बुनियादी सुविधाओं में शौचालय, पानी, पार्क, पेड़-पौधे, मार्ग, खेल मैदान, लैब, सहित अन्य संसाधन है। नैक की मान्यता के लिए उच्च शिक्षा विभाग द्वारा आर्थिक मद उपलब्ध कराया जाता है, जहां कॉलेज द्वारा ऑनलाईन आवेदन भरे जाते हैं, आवेदन भरने की फी ३.५० लाख रूपए हैं। इसके बाद कॉलेज द्वारा एसएसआर रिपोर्ट समिट किया जाता है, जहां एसएसआर रिपोर्ट क्वालीफाइड पाए जाने पर नैक संस्थान(बेगलुरू) द्वारा आगे की कार्रवाई की जाती है।
बॉक्स: जनहित में शिक्षा प्रसार से अब नैक की तैयारी
प्राभारी आंतरिक गणुवत्ता प्रकोष्ठ शासकीय तुलसी कॉलेज डॉ. अमित भूषण द्विवेदी ने बताया कि शासकीय तुलसी महाविद्यालय १९७२ में स्थापित हुआ था, जिसका उद्देश्य क्षेत्र में उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने के साथ कॉलेजी शिक्षा को प्रचार प्रसार करना था। उस दौरान जिले की सभी कॉलेज को जनजातीय अवस्था प्रदान की गई थी। फिर १९८६ में शासनादेश में तुलसी अध्ययन समिति के रूप में महाविद्यालय बना जिसमें कला व विज्ञान संकाय को रखते हुए जनहित में शिक्षा प्रदान की व्यवस्था बनाई गई। लेकिन अब यहां नवीन राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू करते हुए बीए, बीएससी, बीकॉम, एमए, एमएससी, एमकॉम सहित ३८ पाठ्यक्रमों की शिक्षा प्रदान की जा रही है। इस कॉलेज में २७०० छात्र-छात्राएं है, जिनमें ६० प्रतिशत जनजातीय है।
बॉक्स: इंफ्रास्टैक्चर में कमी, मेंटर ने किया निरीक्षण, कमियों को पूरा करने दिए निर्देश
नैक की तैयारियों में जुटे तुलसी महाविद्यालय के प्रबंधकों के अनुसार कुछ कमियां अभी है। इनमें पीएचडी शिक्षण की कमी, शोद्य बनाने प्रस्ताव भेजे गए है, बच्चों की संख्या में बिल्डिंग छोटी साबित हो रही है, नए भवन की मांग की गई है, जबकि विश्व बैंक परियोजना से अतिआधुनिक लैब की सौगात मिली है। नैक बेंगलुरू से मेंटर के रूप में नियुक्त अपर्णा सिंह ने कॉलेज परिसर का भ्रमण कर संतोष जताया है, और कमियों को बताते हुए जल्द कार्य पूरा करने निर्देशित किया है। कॉलेज द्वारा २०२३ में नैक के लिए आवेदन किया जाएगा, जिसमें एसएसआर क्वालीफाई के उपरांत २०२३ में ही नैक की टीम जांच के लिए अनूपपुर पहुंचेगी। फिलहाल कॉलेज प्रबंधक कमियों को पूरा करने में जुट गया है।
----------------------------------------------------
Here students will get modern resources with better education, college
यहां विद्यार्थियों को मिलेगी बेहतर शिक्षा के साथ आधुनिक संसाधन, कॉलेज कर रहा नैक क्वालीफाई की तैयारी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: आदित्य को छोड़ शिवसेना के सारे MLA Minister हुए बागी, उद्धव ठाकरे के साथ बचे सिर्फ MLC मंत्रीMaharashtra Political Crisis: संजय राउत ने 'जिंदा लाश' वाले बयान पर दी सफाई, बोले-उनका जमीर मर गया है, तो उसके बाद क्या बचता है?Presidential Election: यशवंत सिन्हा ने भरा नामांकन, राहुल गांधी-शरद पवार समेत विपक्ष के कई बड़े नेता मौजूदPunjab Budget LIVE Updates: वित्तमंत्री हरपाल चीमा ने कहा- सभी जिलों में बनाए जाएंगे साइबर अपराध क्राइम कंट्रोल रूमपटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में छापेमारी, मिला बम बनाने का सामानMumbai News Live Updates: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बागी मंत्रियों के छीने विभागMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में क्या बन रहे हैं नए सियासी समीकरण? बागी एकनाथ शिंदे ने राज ठाकरे से की फोन पर बातचीतयशवंत सिन्हा को समर्थन देगी TRS, क्या BJP के खिलाफ विपक्ष से हाथ मिला रहे KCR?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.