scriptHere, the shadow of the third eye is on every transaction between the | यहां बैंकों से उपभोक्ताओं के बीच होने वाली हर लेन-देन पर तीसरी आंख का साया, रैकी कर दे रहे वारदात को अंजाम। | Patrika News

यहां बैंकों से उपभोक्ताओं के बीच होने वाली हर लेन-देन पर तीसरी आंख का साया, रैकी कर दे रहे वारदात को अंजाम।

बैंकों के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद नहीं हो रहे चेहरे, धुंधली तस्वीर में लोगों को पहचानना भी मुश्किल

अनूपपुर

Published: May 13, 2022 12:17:17 pm

अनूपपुर। पुलिस अधीक्षक ने जिले में सूदखोरी के साथ ही अन्य अपराधों पर लगाम कसने के लिए बैंक प्रबंधकों को सीसीटीवी लगाए जाने के साथ ही अपराधों पर लगाम लगाने सुरक्षा तंत्र को मजबूत करने की पहल शुरू की है। जिसमें सभी थाना प्रभारियों को खास हिदायतें भी दी गई। इसके बावजूद बैंकों के बाहर सुरक्षा दृष्टि से सीसीटीवी कैमरों के एंगल सही एंगल में नहीं लगाए गए हैं। जिससे यहां पर संदिग्ध रूप से रैकी कर आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने वाले व्यक्तियों को सही तरीके से पहचान नहीं हो पा रही है। और ना ही इसमें शामिल आपराधियों तक पुलिस को पहुचने में आसानी हो रही है। जिसका फायदा अवांछित तत्वों को मिल रहा है, जो दिन-दहाड़े बैंक परिसर के बाहर बाइक की डिक्की आसानी से तोडक़र उसमें उपभोक्ताओं के रखे पैसे को चुरा रहे हैं। बिजुरी थाना अंतर्गत बैंक में रुपए की निकासी करने के लिए पहुंचने वाले कॉलरी कर्मचारियों तथा सेवानिवृत्त कर्मचारी के साथ ही महिला उपभोक्ताओं को अपराधियों ने चिन्हित करते हुए उनकी रैकी कर लाखों रुपए की चोरी बीते 1 माह के भीतर की जा चुकी है।
बैंक में रहता है डेरा, बड़ी रकम वाले की लेन-देन पर रखते हैं नजर
इन दोनों घटनाओं से यह साबित हो चुका है कि बैंक परिसर बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं रह गए हैं। अपराधियों ने चोरी के नए तरीके को अंजाम देने के लिए दिनभर बैंक परिसर में आने वाले उपभोक्ताओं पर निगरानी रखते है। यहां अधिक राशि निकालने वाले ऐसे उपभोक्ताओं को यह अपना शिकार बनाते हैं, जो कि बैंक से पैसे निकालने के बाद डिक्की में उसे रखते हो। इसके बाद यह उसका पीछा करने लग जाते हैं। ज्यादातर उपभोक्ता ग्रामीण अंचलों से आते हैं, जो रुपए निकालने के बाद अपने जरूरत की खरीदारी भी करने लग जाते हैं। ऐसा ही मौका पाकर अपराधी डिक्की तोडक़र उसमें रखे रुपए को पार कर देते हैं।
वेतन के समय ही सक्रिय होता है गिरोह
बिजुरी थाना क्षेत्र में हाल के दिनों में घटित दोनों ही अपराधिक घटनाओं को देखने पर यह साफ होता है कि यह गिरोह सिर्फ कॉलरी कर्मचारियों के वेतन के समय ही सक्रिय होता है। जो कि घटनाओं को अंजाम देने के बाद कुछ दिनों के लिए यह काम बंद कर देते हैं। कुछ दिन बीतने के बाद पुलिस भी दूसरे कामों में व्यस्त हो जाती ह,ै तब फिर से बेफिक्री का फायदा उठाकर यह दूसरी घटनाओं को अंजाम देने लग जाते हैं । बैंक परिसर में ग्राहकों की निगरानी करने वाले ऐसे आवंछित व्यक्तियों पर किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं की जाती है बल्कि यह पूरे दिन बिना किसी बैंकिंग कार्य के बैंक परिसर के आस पास रहकर ग्राहकों की गतिविधियों पर नजर रखते हुए अपराधिक योजनाएं बनाते रहते हैं।
बैंक परिसर में लगे सीसीटीवी कैमरे की तस्वीर भी धुंधली, पहचान में नहीं मिल रही मदद
गुरुवार को इस मामले पर जांच के लिए बिजुरी पुलिस की टीम स्टेट बैंक में स्थित सीसीटीवी कैमरे की जांच के लिए पहुंची, जहां कैमरे में तस्वीर साफ नहीं दिखाई देने की वजह से इस मामले पर पुलिस को कोई मदद नहीं मिल पाई। इसके बाद पास स्थित कियोस्क बैंक में लगे सीसीटीवी कैमरे में भी पुलिस के द्वारा सुराग ढूंढने का प्रयास किया गया, लेकिन उसमें भी कुछ स्पष्ट नजर नहीं आया।
बॉक्स: केस नम्बर 1
बिजुरी थाना क्षेत्र अंतर्गत वार्ड क्रमांक 2 माइनस कॉलोनी निवासी पुरुषोत्तम साहू जो एसईसीएल रीजनल वर्कशॉप बिजुरी में कार्यरत हैं । 10 मई को वह बैंक वेतन निकालने के लिए गए हुए थे, जहां 1 लाख रुपए निकालने के बाद उसको अपनी बाइक एमपी 65 एमबी 2856 के डिक्की में रखकर बाजार कुछ सामान लेने के लिए गए हुए थे। जहां बैंक से उनके पीछे रैकी कर रहे अज्ञात बदमाशों के द्वारा सामान लेने के दौरान डिककी में रखें रुपए लेकर फरार हो गए।
बॉक्स: केस नम्बर 2
11 अप्रेल को वार्ड क्रमांक 14 बिजुरी निवासी वीरेंद्र श्रीवास् ने बैंक से 60 हजार रुपए निकालें थे । जिसके बाद हनुमान मंदिर चौक के पास स्थित दुकान में कुछ सामान खरीदने के लिए चले गए। इतने में दो अज्ञात चोरों ने वीरेंद्र की गाड़ी की डिक्की में रखे हुए 50 हजार रुपए निकालकर फरार हो गए । यह घटना सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हो गई थी। इसके बाद पीडि़त ने बिजुरी थाने में मामले की सूचना दी गई। लेकिन आज तक कोई राशि नहीं मिल सकी और ना ही आरोपियों की गिरफ्तारी हो सकी है।
Here, the shadow of the third eye is on every transaction between the
यहां बैंकों से उपभोक्ताओं के बीच होने वाली हर लेन-देन पर तीसरी आंख का साया, रैकी कर दे रहे वारदात को अंजाम।
वर्सन:
बैंक परिसर का निरीक्षण करते हुए सुरक्षा के आवश्यक प्रबंध बनाने के निर्देश दिए जाएंगे एवं दर्ज अपराध पर जल्द कार्रवाई के लिए निर्देशित किया जाएगा।
अखिल पटेल, पुलिस अधीक्षक अनूपपुर।
-------------------------------------------------

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मामले के बीच गोवा के सीएम का बड़ा बयान, प्रमोद सावंत बोले- 'जहां भी मंदिर तोड़े गए फिर से बनाए जाएं'BJP को सरकार बनाने के लिए क्यों जरूरी है काशी और मथुरा? अयोध्या से बड़ा संदेश देने की तैयारीआक्रांताओं द्वारा तोड़े गए मंदिरों के बारे में बात करना बेकार है: सद्गुरुबेल्जियम, पहला देश जिसने मंकीपॉक्स वायरस के लिए अनिवार्य किया क्वारंटाइनएशिया कप हॉकी: पहले ही मैच में भिड़ेंगे भारत और पाकिस्तान, ऐसा है दोनों टीमों का रिकॉर्डआख़िर क्यों असदुद्दीन ओवैसी बार-बार प्लेसेज ऑफ़ वर्शिप एक्ट की बात कर रहे हैं, जानें क्या है यह एक्टकपिल देव के AAP में शामिल होने की चर्चा निकली गलत, सोशल मीडिया पर पूर्व कप्तान ने खुद साफ की स्थितिअफगानिस्तान के काबुल में भीषण धमाका, तालिबान के पूर्व नेता की बरसी पर शोक मना रहे लोगों को बनाया गया निशाना
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.