scriptHow are the irrigation of the fields here, the water has not reached t | यहां कैसे हो खेतों की सिंचाई, पांच साल से 6445 हेक्टेयर खेतों में जलाशय का नहीं पहुंचा है पानी | Patrika News

यहां कैसे हो खेतों की सिंचाई, पांच साल से 6445 हेक्टेयर खेतों में जलाशय का नहीं पहुंचा है पानी

ठेकेदारों की मनमानी में सिंचाई योजनाएं अधूरी, विभाग नोटिस की कार्रवाई तक सिमटा

अनूपपुर

Published: February 21, 2022 09:21:53 pm

अनूपपुर। जिले में जलसंरक्षण के साथ जलाशयों के माध्यम से खेतों को हरा-भरा रखने की योजनाओं में अब विभागीय अधिकारियों की उदासीनता और ठेकेदार की मनमानी में पिछले पांच साल बाद भी किसानों की खेतों तक पानी नहीं पहुंच सका है। इनमें कई योजनाएं ऐसी भी जो भूमि विवाद और मुआवजा राशि की मांग में निर्माणाधीन अटकी पड़ी है। वहीं कुछ जलाशयों के निर्माण में ठेकेदार की मनमानी हावी है, जहां विभागीय अधिकारियों द्वारा जारी किए जा रहे बार-बार की नोटिस के बाद भी ठेकेदार निर्माण कार्य के लिए गंभीर नहीं दिख रहा है। जिसके कारण जिले की ९ सिंचाई परियोजनाएं पिछले पांच साल बाद भी अधूरी पड़ी है। इसके कारण जिले की लगभग ६४४५ हेक्टेयर रकबा सिंचाई से वंचित पड़ा है। विभागीय जानकारी के अनुसार ये ९ सिंचाई योजनाएं जिले की महत्वाकांक्षी सिंचाई परियोजनाओं से शामिल हैं, जिनके निर्माण से जिले के चारो विकासखंड के हजारों किसानों को सिंचाई का लाभ मिल सकेगा और खेतों में सिंचाई की सुविधा मिलने से यहां के खेतों के उत्पादन में वृद्धि होगी। लेकिन फिलहाल सभी ९ योजनाएं निर्माणाधीन अवस्था में बंद पड़ी है। विभागीय अधिकारियों ने बताया है कि इनमें पांच योजनाओं की समय सीमा अब समाप्त हो चुकी है, लेकिन उनके कार्य अब भी अधूरे हैं। जबकि चार परियोजनाओं के पूर्णावधि का समय भी चंद माह जून के दौरान पूरी हो जाएगी। विभाग का कहना है कि इन सभी योजनाओं को वर्ष २०२१-२२ और २०२२-२३ में पूर्ण कर लिया जाएगा। ठेकेदारों को फिर से नोटिस जारी कर कार्य के लिए आमंत्रित किए जा रहे हैं, इनमें से कुछ ठेकेदारों के कार्य नहीं करने पर उनके स्थान पर अन्य के लिए टेंडर जारी करने की प्रक्रिया भी अपनाई जाएगी।
बॉक्स: पांच साल पूर्व योजनाएं स्वीकृति, आधे में अटकी
विभागीय जानकारी के अनुसार जलसंसाधन संभाग अनूपपुर अंतर्गत पिपरिया जलाशय कोतमा, गोहरारी डायवर्सन अनूपपुर, झिलमिल जलाशय पुष्पराजगढ़, समरार जलाशय पुष्पराजगढ़, सिंहपुर डायवर्सन, बकान डायवर्सन जलाशय वर्ष २०१६ में स्वीकृत हुई थी, इनसें कुल ५२५५ हेक्टेयर भूमि सिंचित की जाने की योजना प्रस्तावित है। इनके लिए शासन द्वारा १२२२९.७१ लाख की राशि स्वीकृत की थी। इनमें समरार जलाशय और सिंहपुर डायवर्सन की समयावधि ३० जून २०२२ तक निर्धारित की हुई है। लेकिन शेष योजनाओं की समयावधि २०२१ तक पूर्ण हो चुकी है। जबकि दमहेडी जलाशय वर्ष २०१२ में ही स्वीकृत हुआ था, जिसके निर्माण के लिए शासन द्वारा ५६१.९५ लाख रूपए स्वीकृत किए थे और इस जलाशय से २७० हेक्टेयर भूमि सिंचित की जानी थी। लेकिन अब तक यह जलाशय पूर्ण नहीं हो सका है। इसके अलावा धनपुरी जलाशय और चोलना स्टोरेज वियर के कार्य भी २०१७ और २०१८ से निर्माणधीन अवस्था में अटकी पड़ी है। पूरे परियोजना पर लगभग १४८५०.३० लाख रूपए स्वीकृत हैं।
बॉक्स: मुआवजा और भूमि अभाव में अटका सिंहपुर डायवर्सन योजना
बताया जाता है कि पिपरिया जलाशय सहित सिंहपुर डायवर्सन का निर्माण कार्य भूमि मुआवजा सहित भूमि आवंटन के अभाव में अटका पड़ा है। बताया जाता है कि सिंहपुर डायवर्सन जैतहरी की सिंचाई योजनाओं में ग्रामीणों की मांग है कि विभाग द्वारा जो भूमि अधिग्रहण किया गया है वह कलेक्टर दर के अनुसार कम है। जिसमें वे अधिक कीमत पर मुआवजा की मांग कर रहे हैं। आलम यह है कि किसानों ने यहां भूमि देने से इंकार कर दिया है।
बॉक्स: कहां कौन सी योजनाएं
योजना विकासखंड लागत प्रस्तावित सिंचाई कार्य की स्थिति
पिपरिया जलाशय कोतमा २६४२.६८ ८४० कार्य प्रगति पर
गोहरारी डायवर्सन अनूपपुर १३९०.३७ ७५० कार्य प्रगति पर
झिलमिल जलाशय पुष्पराजगढ़ १९६०.४० ९०५ कार्य प्रगति पर
दमहेड़ी जलाशय पुष्पराजगढ़ ५६१.९५ २७० कार्य प्रगति पर
समरार जलाशय पुष्पराजगढ़ १५९०.३० ५३० कार्य प्रगति पर
सिंहपुर डायवर्सन जैतहरी २२२२.०९ १०३० कार्य प्रगति पर
बकान डायवर्सन जैतहरी २४२३.९० १२०० कार्य पूरा, रेलवे क्रॉसिंग का कार्य शेष
धनपुरी जलाशय जैतहरी १३५९.०४ ४४५ कार्य प्र्रगति पर
चोलना स्टोरेज वियर जैतहरी ६९९.६० ४७५ कार्य प्रगति पर
----------------------------------------------------------------
How are the irrigation of the fields here, the water has not reached t
यहां कैसे हो खेतों की सिंचाई, पांच साल से 6445 हेक्टेयर खेतों में जलाशय का नहीं पहुंचा है पानी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.