कोतमा जनपद पंचायत अध्यक्ष दे रही सीईओ को निपटा देने की धमकी

कोतमा जनपद पंचायत अध्यक्ष दे रही सीईओ को निपटा देने की धमकी

Rajan Kumar | Updated: 14 Aug 2019, 04:50:53 PM (IST) Anuppur, Anuppur, Madhya Pradesh, India

मप्र संयुक्त शासकीय अधिकारी कर्मचारी संगठन ने वरिष्ठ अधिकारियों के नाम सौंपा ज्ञापन, कार्रवाई की मांग

अनूपपुर। ९ अगस्त को कोतमा मंगल भवन में आयोजित विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर मंच पर लगे फलैक्स में जपं अध्यक्ष कोतमा मनीषा ङ्क्षसह की तस्वीर नहीं होने से कार्यक्रम की अध्यक्षता करने पहुंची जंप अध्यक्ष मनीषा सिंह ने कार्यक्रम आयोजक जपं सीईओ को चप्पल से मारने तथा निपटा देने की धमकी दी। जिसके विरोध में मंगलवार १३ अगस्त को मप्र. संयुक्त शासकीय अधिकारी कर्मचारी संगठन ने कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक और जिला पंचायत सीईओ के नाम ज्ञापन सौंपकर कार्रवाई की मांगी। साथ ही एक सप्ताह की मोहलत देते हुए कार्रवाई नहीं होने पर सभी अधिकारी एवं कर्मचारी ने कलम बंद आंदोलन की चेतावनी दी। ज्ञापनकर्ताओं द्वारा ७ मुख्य बिन्दूओं पर वरिष्ठ अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा गया। जिसमें सम्बधित जपं अध्यक्ष के विरूद्ध जांच कार्रवाई करते हुए आपराधिक प्रकरण दर्ज कराने की अपील की। ज्ञापनकर्ताओं का कहना था कि ९ अगस्त को १.३० बजे खंड स्तरीय विश्व आदिवासी दिवस कार्यक्रम में कोतमा जपं अध्यक्ष मनीषा सिंह के द्वारा जपं सीईओ कोतमा को हाथ उपर कर उंगली दिखाते हुए धमकी देते हुए बोली स्टेज फ्लैक्स में मेरी फोटो क्यों नहीं लगाए, तुम्हें चप्पल उतार कर मारूंगी। तुमको अभी निपटा दंूगी। जबकि सीईओ द्वारा यह समझाने पर कि शासन से जारी स्टेज फ्लैक्स में मुख्यमंत्री एवं मंत्री आदिम जाति कल्याण के फोटे लगाने थे। आपने फोटोग्राफ्स नहीं दिया था। इसलिए आपके फोटे फ्लैक्स पर नहीं लगाए गए। इसके बाद भी वह अभद्रता करती रहीं। गाली-गलौज व चप्पल मारने तथा निपटा देने की धमकी देती रही। जबकि जिले के अन्य कार्यक्रमों में भी किसी जनपद अध्यक्ष का फ्लैक्स पर फोटो नहीं लगाया गया था। वहीं सीईओ कोतमा का कहना था कि इस घटना के बाद भी शासन की महत्वाकांक्षी विश्व आदिवासी दिवस कार्यक्रम होने के कारण जपं सीईओ अपने पदीय दायित्वों का निर्वाहन अपमानित होकर देर शाम तक सफलता पूर्वक सम्पन्न कराया। इस विवाद में लगभग १५ मिनट तक कार्यक्रम बाधित रहा। मप्र. संयुक्त शासकीय अधिकारी कर्मचारी संगठन ने जपं अध्यक्ष के इस बर्ताव पर आशंका जाहिर करते हुए भविष्य में कोई भी षड्यंत्र कर किसी भी प्रकार के झूठे आरोप को अंजाम दे सकती है। मप्र. संयुक्त शासकीय अधिकारी कर्मचारी संगठन के साथ अन्य अधिकारी कर्मचारी संगठनों ने भी अपना समर्थन देते हुए कार्रवाई की मांग की और कार्रवाई नहंी होने पर कलमबंद की चेतावनी दी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned